जानिए क्यू पीले रंग को वसंत पंचमी प्र शुभ माना जाता है..!!!

ऐसी मान्यता है कि सबसे पहले पीले वस्त्र धारण करके श्रीकृष्ण ने देवी सरस्वती का पूजन माघ शुक्ल पंचमी को किया था. तभी से बसंत पंचमी के दिन सरस्वती पूजन का प्रचलन है. देवी सरस्वती की आराधना बागीश्वरी, भगवती, शारदा, वीणावादनी जैसे अनेक नामों से होती है.

ज्योतिष विद्या के अनुसार पीले रंग का संबंध गुरु ग्रह से है जो ज्ञान, धन और शुभता के कारक माने जाते हैं.

गुरु ग्रह के प्रभाव से धन बढ़ता है, सुख, समृद्धि प्राप्त होती है, पीले रंग का प्रयोग करने से गुरु ग्रह का प्रभाव बढ़ता है और जीवन में धन, दौलत, मान-यश की प्राप्ति होती है.

हिंदू धर्म में पीला रंग बहुत शुभ माना जाता है, बसंत उत्सव मानने के लिए अपनी खुशी का इजहार करने के लिए बसंत पंचमी के दिन पीले रंग के चावल बनाये जाते है. हल्दी व चन्दन का तिलक लगाया जाता है.

बसंत पंचमी की कहानी.

पीले लड्डू और केसरयुक्त खीर बना कर मां सरस्वती , भगवान कृष्ण और भगवान विष्णु को अर्पित किया जाता है. पीले रंग के वस्त्र धारण कर पूजा, उपासना की जाती है आने वाला समय शुभ हो, उन्नति हो, जीवन में और सफलता मिले ऐसी प्रार्थना मां सरस्वती, भगवान कृष्ण और श्रीहरि विष्णु जी से की जाती है