तीन चौपड़ मंदिर में स्थित त्रिदेवियों करती है सबकी मुरादें पूरी;एक बार जाइये जरूर..!!!

आज की इस भागदौड़ भरी दुनिया में हर व्यक्ति ये चाहता है कि उसकी हर ख्वाइश पूरी हो,उसका कोई भी सपना अधूरा न रहें हर सपना पूरा हो और इसके लिए न केवल कुछ उपाय और जतन करता है बल्कि हर उस जगह जाता है जहाँ उसकी ख्वाहिश पूरी हो सके ।

त्रिदेवी (मां दुर्गा, महालक्ष्मी और देवी सरस्वती)
त्रिदेवी (मां दुर्गा, महालक्ष्मी और देवी सरस्वती)

यदि आपकी ऐसी कोई इच्छा है जो अब तक पूरी नहीं हुई है तो जयपुर में स्थित तीन चौपड़ों के दर्शन करने चले जाइए। आज हम इसी बारे में आपको बताने जा रहे है।

इस जगह के बारे में ऐसा माना जाता है कि यहाँ तीन चौपड़ों में स्थित त्रिदेवियों (मां दुर्गा, महालक्ष्मी और देवी सरस्वती) की पूजा करने से व्यक्ति की सारी मनोकामना पूरी हो जाती हैं।

तीन चौपड़ मंदिर
तीन चौपड़ मंदिर

राजस्थान के जयपुर शहर में तीन चौपड़ स्थित है। इन चौपड़ों को त्रिदेवियों (मां दुर्गा, महालक्ष्मी और देवी सरस्वती) का निवास स्थान माना जाता है। इन चौपड़ों पर माँ की मूर्तियाँ न होकर तीन यंत्र स्थापित किए गए हैं।

यहाँ पूजा करने वाले पुजारी-विद्वानों द्वारा छोटी चौपड़ पर मां सरस्वती का यंत्र स्थापित किया गया है। इसके अलावा रामगंज नामक चौपड़ पर मां दुर्गा का यंत्र और बड़ा चौपड़ में महालक्ष्मी का यंत्र स्थापित किया गया है। बड़े चौपड़ पर देवी लक्ष्मी का शिखरबंध मंदिर स्थित है जिसका नाम माणक चौक के नाम पर रखा गया है।

तीन चौपड़ मंदिर
तीन चौपड़ मंदिर

इस मंदिर की एक खासियत यह है की आप यहाँ मंदिर में नंदी पर सवार माँ पार्वती और भगवान शिव के दुर्लभ विग्रह को देख सकते हैं। माणक चौक चौपड़ पर बने लक्ष्मीनारायण मंदिर के निर्माण में बीचू बाई का महत्वपूर्ण योगदान रहा। इस मंदिर में विशेष अनुष्ठान के बाद माँ लक्ष्मी जी की प्रतिमा को स्थापित किया गया।

इस प्रतिमा की सबसे खास बात ये है कि यह एक ही शिला में बनी हुई है। जिसमें श्री हरि विष्णु के वाम भाग में महालक्ष्मी जी विराजमान हैं। मंदिर के प्रवेश द्वारा पर गरुड़ देवता विराजमान हैं जो मंदिर की रक्षा करते हैं।

तो अगर आप भी चाहते है अपनी मनोकामना को करना पूरी तो एक बार जरूर दर्शन करके आइये ।

॥ जय माता दी ॥