प्राचीन काल में शनिदेव की पूजा आज की तरह सभी मंदिरों में नहीं हुआ करती थी अगर हमें शनिदेव के प्रकोप से बचना होता था तो हम पहले