बात उन दिनों कि है जब श्रीराम का अश्वमेघ यज्ञ चल रहा था। कई राजाओं के द्वारा यज्ञ का घोड़ा पकड़ा गया लेकिन अयोध्या की सेना के आगे