अगर आपके यहा रोज सुबह की पूजा मे नहीं होती यह एक चीज तो लाख कोशिश कर लो नही देगी आपको वह पूजा फल !!

अगर आप पूजा मे नहीं चढ़ाते यह एक चीज तो चाहे कितनी भी बडी़ पूजा हो नहिं देगी आपको इच्छास्वरूप फल !!

हम सब पूजा करते हैं घर के मंदिर में बहुत सी ऐसी चीजें होती है जिनका हमें अच्छी तरह से ज्ञान नहीं हो पाता है । और पूजा हमारी अधूरी रह जाती है ।आज हम आपको एक ऐसी चीज बताएंगे जो शास्त्रों में बताया गया है कि उसके बिना कैसी भी पूजा हो वह पूजा अधूरी मानी जाती है।

हम बात कर रहे हैं पंचामृत की, पंचामृत पांच चीजों से मिलकर बना होता है दूध दही घी शहद और मिश्री लेकिन कभी-कभी गन्ने का रस भी मिश्री की जगह पर पंचामृत में शामिल कर लिया जाता है । पंचामृत का शास्त्रों और वैदिक काल में विशेष महत्व बताया गया है माला जाता है कि जो व्यक्ति श्रद्धा पूर्वक सच्चे मन से पंचामृत का सेवन करता है । ऐसा व्यक्ति संसार के सभी सुखों को प्राप्त करता है और मृत्यु के पश्चात जन्म मरण के चक्कर से मुक्त हो जाता है ।सिर्फ शास्त्रों की दृष्टि से ही नहीं स्वास्थ्य की दृष्टि से भी पंचामृत बहुत महत्वपूर्ण है पंचामृत रोज ग्रहण करने से हमारे शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है । और जिससे हमें छोटी बीमारियों से सुरक्षा मिलती है ।