जानिए मुंबई स्थित श्री सिद्धिविनायक मंदिर के बारे मे सबकुछ जो आभी तक आपको नही पता…!!!!

श्री सिद्धिविनायक मंदिर देश में स्थित सबसे पूजनीय मंदिरों में से एक है. यह मंदिर भगवान गणेश को समर्पित है.

मुंबई स्थित सिद्धिविनायक मंदिर का निर्माण 1801 में विट्ठु और देउबाई पाटिल ने किया था. इस मंदिर में गणपति का दर्शन करने सभी धर्म और जाति के लोग आते हैं.

इस मंदिर के अंदर एक छोटे मंडपम में भगवान गणेश के सिद्धिविनायक रूप की प्रतिमा प्रतिष्ठापित की गई है. अद्भुत शिल्पाकारी से परिपूर्ण गर्भगृह के लकड़ी के दरवाजों पर अष्टविनायक को प्रतिबिंबित किया गया है. जबकि अंदर की छतें सोने की परत से सुसज्जित हैं.

क्या सिद्धिविनायक रूप की महत्ता
सिद्घिविनायक गणेश जी का सबसे लोकप्रिय रूप है. गणेश जी के जिन प्रतिमाओं की सूड़ दाईं तरफ मुड़ी होती है वो सिद्घपीठ से जुड़ी होती हैं और उनके मंदिर सिद्घिविनायक मंदिर कहलाते हैं. कहते हैं कि सिद्धि विनायक की महिमा अपरंपार है, वे भक्तों की मनोकामना को तुरंत पूरा करते हैं. मान्यता है कि ऐसे गणपति बहुत ही जल्दी प्रसन्न होते हैं और उतनी ही जल्दी कुपित भी होते हैं.

कब जाएं सिद्धिविनायक मंदिर
हालांकि इस मंदिर में रोजाना ही बड़ी संख्या में श्रद्धालु आते हैं लेकिन मंगलवार के दिन यहां बड़ी संख्या में श्रद्धालु पहुंचते हैं. इस मंदिर में अंगारकी और संकाष्ठि चतुर्थी के दौरान बड़ी संख्या में श्रद्धालु पहुंचते हैं.
हर साल गणपति पूजा महोत्सव यहां  विशेष समारोह पूर्वक मनाया जाता है. .

हर काम का होता है श्री गणेश
भगवान गणेश का हिंदूओं में बहुत महत्व है. मान्यता है कि प्रत्येक नवीन कार्य से पूर्व, नए जगह जाने से पहले और नई संपत्ति के अर्जन से पूर्व इनका पूजन अनिवार्य है. यही कारण है कि मुंबई के कई विशिष्ट लोग जैसे राजनेता, बॉलीवुड की प्रसिद्ध हस्तिया यहा दर्शन को अक्सर आते है.

लगभग 50  करोड़ रुपये की वार्षिक आय के साथ मुंबई का सिद्धिविनायक मंदिर, महाराष्ट्र का दूसरा सबसे अमीर मंदिर है.