इस गणेश चतुर्थी जानिए क्यों है श्री गणेश प्रथम पूज्य…!!!

इस गणेश चतुर्थी जानिए क्यों है श्री गणेश प्रथम पूज्य…!!!

प्रथम पूज्य श्री गणेश
प्रथम पूज्य श्री गणेश

हमारे हिन्दू शास्त्रों में बताया गया है कि किसी भी काम में बिघ्न -बाधा से बचने के लिए सबसे पहले श्री गणेश की अराधना की जाती है। जानिए शास्त्रों में श्री गणेश को सर्वप्रथम पूजने के पीछे क्या पौराणिक कथा । पद्मपुराण के अनुसार सृष्टि के आरंभ में जब यह प्रश्न उठा कि प्रथम पूज्य किसे माना जाए, तो समस्त देवतागण ब्रह्माजी के पास पहुंचे। ब्रह्माजी ने कहा कि जो कोई संपूर्ण पृथ्वी की परिक्रमा सबसे पहले कर लेगा, उसे ही प्रथम पूजा

पहुंचे। इस पर सभी देवतागण अपने-अपने वाहनों पर सवार होकर परिक्रमा हेतु चल पडे। चूंकि गणेशजी का वाहन चूहा है और उनका शरीर स्थूल, तो ऐसे में वे परिक्रमा कैसे कर पाते। इस समस्या को सुलझाया देवर्षि नारद ने।

नारद ने उन्हें जो उपाय सुझाया, उनके अनुसार गणेशजी ने भूमि पर “राम” नाम लिखकर उसकी सात परिक्रमा की और ब्रह्माजी के पास सबसे पहले

पहुंच गए। तब ब्रह्माजी ने उन्हें प्रथमपूज्य बताया, क्योंकि “राम” नाम साक्षात् श्रीराम का स्वरूप है और श्रीराम में ही संपूर्ण ब्रह्मांड निहित है।

बस, तभी से गणेशजी अग्रपूज्य हो गए।

 

॥ जय गणेश ॥