श्राद्ध के दौरान पितरों को प्रसन्न करने के लिए भूलकर भी ये काम ना करें.!!!

श्राद्ध के दौरान भूलकर भी ये काम ना करें
श्राद्ध के दौरान भूलकर भी ये काम ना करें

श्राद्ध पक्ष के दौरान मान्यता है कि सभी पितृ की आत्माएं पृथ्वी पर भ्रमण करती हैं और अपने परिवार के लोगों के बीच आकर रहती हैं।ऐसा माना जाता है कि अगर पितृ नाराज़ हो जाते तो मनुष्य को अपने जीवन में कई तरह की परेशानियों का सामना करना पड़ता है। पितृ पक्ष के दौरान कुछ खास बातों का ध्यान रखना जरुरी है ।

श्राद्ध के दौरान इन कामों को भूलकर भी न करें।

1 – पितृ पक्ष के दौरान घर पर आए किसी भी अतिथि को बिना भोजन पानी के नहीं जाने देना चाहिए, मान्यता है कि इन दिनों पितर किसी भी रूप में आपके घर पर आ सकते हैं।

2 – पितृ पक्ष में बनाए गए भोजन में से एक हिस्सा निकालकर सबसे पहले पितरों को अर्पण करना चाहिए , उसके बाद स्वयं भोजन करें ।

3 – पितृ पक्ष के दौरान खाने में मसूर की दाल, चना, लहसुन,  काले उडद, काला नमक,और बासी भोजन नहीं खाना चाहिए। इसके अलावा खान-पान में मांस मछली को शामिल नहीं करना चाहिए।

4 – जो व्यक्ति पितरों का श्राद्ध करता है, उसे पितृ पक्ष में ब्रह्मचर्य का पालन करना चाहिए।

5 – ऐसा कहा जाता है कि पितृ पक्ष के दौरान नया घर नहीं लेना चाहिए ।

6 – श्राद्ध एवं तर्पण क्रिया में काले तिल का बड़ा महत्त्व होता है। श्राद्ध करने वालों को पितृ कर्म में काले तिल का इस्तेमाल करना चाहिए, लाल और सफेद तिल का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए।

7– शास्त्रों के मुताबिक अपने पितरों का किसी और के घर की जमीन पर तर्पण नहीं करना चाहिए।

8 – पितृ पक्ष में पितरों को प्रसन्न करने के लिए ब्राह्मणों को भोजन करवाने का नियम है लेकिन ध्यान रखें भोजन पूर्ण सात्विक एवं धार्मिंक विचारों वाले ब्राह्मण को ही करवाना चाहिए ।

Loading...