शीतला माता का सबसे प्राचीन मंदिर, जहां जाने से होती है सभी मनोकामना पूर्ण :

शीतला माता की पूजा शीतला सप्तमि तथा शीतला अष्टमी पर की जाती है। शीतला माता के यूं तो कई प्रचीन मंदिर है जैसे राजस्थान के पाली जिले में, जबलपुर के पास पालन में घमापुर-शीतलामाई मार्ग पर और भोपाल की बड़ी झील के किनारे वीआईपी रोड स्थित शीतला माता मंदिर बहुत ही प्रसिद्ध है परंतु गुड़गांव में जो मंदिर है उसे सबसे खास माना जाता है।
 

गुड़गांव गुरुग्राम में शीतला माता का मंदिर स्थित है। देश के सभी प्रदेशों से यहां श्रद्धालु मन्नत मांगने आते हैं। गुड़गांव का शीतला माता मंदिर देशभर के श्रद्धालुओं की आस्था का केंद्र बना है। यहां साल में दो बार एक-एक महीने का मेला लगता है। यहां के शीतला माता मंदिर की कहानी महाभारत काल से जुड़ी है।

महाभारत के समय में भारतवंशियों के कुल गुरु कृपाचार्य की बहन तथा महर्षि शरद्वान की पुत्री शीतला देवी (गुरु मां) के नाम से गुरु द्रोण की नगरी गुड़गांव में शीतला माता की पूजा होती है। लगभग 500 वर्षो से यह मंदिर लोगों की आस्था का केंद्र बना हुआ है। लोगों की मान्यता यह है कि यहां पूजा करने से शरीर पर निकलने वाले दाने, जिन्हें स्थानीय बोलचाल में (माता) कहते हैं, नहीं निकलते।

प्रचलित मान्यता के मुताबिक जब गुरु द्रोण महाभारत के युद्ध में द्रुपद पुत्र धृष्टद्युम्न द्वारा वीरगति को प्राप्त हुए, तो उनकी पत्नी कृपि अपने पति के साथ सती होने के लिए तैयार हुई तो लोगों ने उनको सती होने से रोका परंतु माता कृपि सती होने का निश्चय करके अपने पति की चिता पर बैठ गईं। बैठते वक्त उन्होंने लोगों को आशीर्वाद दिया कि मेरे इस सती स्थल पर जो भी अपनी मनोकामना लेकर पहुंचेगा, उसकी मनोकामना पूरी होगी।इसके बाद से जो भी भक्त अपनी लेकर जाता है शीतला माता उसकी मनोकामना पूर्ण करती है ।