इस गुरुवार देखिये साई बाबा की असली तस्वीरें..!!!जो बताती है असलियत में कैसे दीखते थे साई बाबा ..!!!

इस गुरुवार देखिये साई बाबा की असली तस्वीरें..!!!जो बताती है असलियत में कैसे दीखते थे साई बाबा ..!!!

माना जाता है कि 22 अक्टूबर को शिरडी के साईं बाबा का निर्वाण दिवस था। 1918 में दशहरा के ही दिन उन्होंने अंतिम सांस ली थी। शिरडी के साईं बाबा का निधन 15 अक्टूबर 1918 (दशहरा के दिन) हुआ था।शिरडी के साईं बाबा के भक्त देश में ही नहीं, बल्कि दुनियाभर में फैले हुए हैं। उनके फकीर स्वभाव और चमत्कारों की कई कथाएं है। साईं बाबा ने अपना पूरा जीवन जनसेवा में ही व्यतीत किया। वह हर पल दूसरों के दुख दर्द दूर करते रहे। रूखी-सूखी रोटी जैसी मिलती थी, उसको खाकर अपना जीवन व्यतीत करते थे।साईं ने अपने अंतिम दिनों में धार्मिक ग्रन्थ सुना था उन्हें शिर्डी के ही “वझे” नामक व्यक्ति ने राम प्रकरण सुनाया था वझे ने साईं बाबा को एक हफ्ते तक राम प्रकरण सुनाया था ।

आज हम आपको साईं बाबा की करीबन 100 साल से अधिक पुरानी तस्वीरें दिखाने जा रहे है। हालांकि यह स्पष्ट नहीं है कि किसने ये तस्वीरें ली हैं।

साईं बाबा की यह फोटो द्वारिका माई की बताई जाती है
साईं बाबा की यह फोटो द्वारिका माई की बताई जाती है

साईं बाबा अपनी द्वारका माई में बैठे हुए
साईं बाबा अपनी द्वारका माई में बैठे हुए

 

शिर्डी में बाबा का निवास स्थान चावडी जहाँ बाबा अपने शिष्यों के साथ बैठे हैं
शिर्डी में बाबा का निवास स्थान चावडी जहाँ बाबा अपने शिष्यों के साथ बैठे हैं

 

साईं बाबा अपने शिष्यों के साथ
साईं बाबा अपने शिष्यों के साथ

 

 साईं बाबा की यह फोटो शिर्डी बाजार की है

साईं बाबा की यह फोटो शिर्डी बाजार की है

 

साईं बाबा
साईं बाबा

 

बाबा की यह तस्वीर निधन से कुछ महीने पहले ली गई थी
बाबा की यह तस्वीर निधन से कुछ महीने पहले ली गई थी