जानिए आपके साथ शुभ हो रा है या नही.. रोजमरा की रोचक जानकारी..!!! ज़रूर पढ़े..!!

जानते है ऐसी ही कुछ रोजमरा की बातो के बारे जिनसे हमारी शुभ और अशुभ होने की अवधारणा जुडी है
उल्लू का दिखना-उल्लू उन ख़ास पक्षियों में से है जिनको रात के समय दिखाई देता है, ये बुद्धिमत्ता के प्रतिक होते है किन्तु इनका आपके घर की छत पर बैठने का मतलब है कि घर पर कोई मुसीबत आने वाली है, सावधान रहें.
आवाज सुनना-यदि सुबह के समय कोई अच्छे काम के लिए जाते समय आपको मंदिर की घंटी, शंख अथवा मधुर वीणा की ध्वनि सुनाई देती है तो आपका कार्य अवश्य पूर्ण होगा, वही कुत्ते के रोने की आवाज आपके कार्य में असफलता की तरफ संकेत करती है, ऐसे ही काली बिल्ली के रास्ते का काटना भी अशुभ संकेत होता है.
सूअर दिखना-किसी यात्रा से पूर्व सूअर का दिखना भी इस बात की तरफ इशारा करता है की आपका कार्य सफला होने वाला है तथा इसमें किसी भी प्रकार की बाधा का आपको सामना नहीं करना पड़ेगा.
बारिश का होना-जब कभी बारिश होती है तो हमारे दिमाग कई चीज़ सोचने लगता है जिनमे दो बाते मुख्य होती है. पहला यह की बारिश है तो कही ना जाया जाय, भीगने से बचा जाए और दुसरा ये की बारिश का आनन्द लिया जाए और भीगकर मजे किये जाए, किन्तु अगर आप बारिश में भीगना नहीं चाहते लेकिन किसी कारण आपको बारिश में निकलना पड़ा और आप भीग गए तो समझ जाए की आपको भविष्य में आर्थिक संकट से गुजरना पड़ेगा.
नहाना-इन परंपराओं के अनुसार आपको सदा पूर्व दिशा की तरफ मुख करके नहाना चाहियें बाकी सभी दिशाएँ अशुभ होती है.
टोकना-अक्सर कहा जाता है कि जब व्यक्ति कार्य के लिए निकल रहा हो तो उसे पीछे से नहीं टोंकना चाहियें क्योकि ऐसा करने से जिस कार्य के लिए वे जा रहे है उन्हें उसमें असफलता मिलती है और उनका समय, पैसा इत्यादि सब व्यर्थ हो जाता है.
मोर की मधुर आवाज-ठीक इसी प्रकार अगर आपको यात्रा से पहले या यात्रा के दौरान मोर अपने पंख फैलाएं दिखे या वो अपनी मधुर आवाज में गाता हुआ सुनाई दें तो भी आपकी यात्रा में सफलता के अवसर बढ़ते है.
बंदरो का दिखाई देना-हमारे हिन्दू धर्म में बंदरो को बजरंगबली का रूप माना गया है अतः अगर आपको आपकी यात्रा प्रारम्भ करने से पहले कोई बंदर दिखता है तो इसका मतलब है की आपकी यात्रा में किसी भी प्रकार की बाधा नहीं आएगी. यदि ऐसा मंगलवार के दिन हो तो आपकी यात्रा मंगलमय होती है.