जरूर पढ़िए ऐसा अद्भुत पर्वत जो बना है ऋषियों के अस्थि अवशेषों से..!!!

 रामायण काल का एक प्रसिद्ध पर्वत
रामायण काल का एक प्रसिद्ध पर्वत

आज की कड़ी में हम रामायण काल के एक प्रसिद्ध पर्वत की बात कर रहें है जिसका नाम रामायण में कई बार आता है, ये पर्वत है ऋष्यमूक पर्वत। आइये आज हम आपको बताते है इस पर्वत का नाम ऋष्यमूक पर्वत कैसे पड़ा और इसके बारे में पुराणों में एक रोचक कथा का वर्णन किया गया है।

पौराणिक कथाओं के अनुसार, जब रावण का अत्याचार बढ़ गया तब रावण के डर से काफी मात्रा में ऋषि एक साथ एक पर्वत पर जाकर रहने लगे। ये

ऋषि यहां पर मूक (मौन) होकर रावण का विरोध कर रहे थे।

रावण जब विश्व विजय के लिए इस पर्वत के पास से निकला, तो उसने एक साथ बैठे ऋषियों को एक जगह एकत्र देखकर पूछा कि इतने सारे ऋषि यहां क्या कर रहे हैं तो राक्षसों ने जबाव दिया कि महाराज आपके द्वारा सताए हुए ऋषि मूक होकर यहां आपका विरोध कर रहे हैं।

ऋष्यमूक पर्वत
ऋष्यमूक पर्वत

ये सुनकर रावण को क्रोध आ गया और उसने सारे ऋषियों को मार डाला। उन्हीं के अस्थि अवशेषों से यहां पहाड़ बन गया, तभी से इस पर्वत को ऋष्यमूक पर्वत के नाम से जाना जाने लगा।

 

॥ जय श्री राम ॥

Loading...