क्या आप जानते है होता है बाबा महाकाल का रिसेप्शन…!!!!!

बाबा महाकाल का रिसेप्शन

बाबा महाकाल दूल्हे के अवतार में

 

उज्जैन के राजा बाबा महाकाल का बड़ा त्यौहार शिवरात्रि अपने साथ एक और अनोखी की रसम लाता है। जैसे की आप सभी जानते ही है बाबा महाकाल को उज्जैन वासी अपने राजा के रूप में  मानते है , यही वो कारण हैं जो अपने आप को अनोखा बनाता है ।दरसल उज्जैन में बाबा महाकाल कि शादी  करी जाती है। हिन्दू परंपरा के अनुसार सभी रस्मे निभाई  जाती है भक्त लोग उनकी शादी की तयारी पहले से ही शुरू कर देते  है ।शिवरात्रि पर भगवान् भोलेनाथ की शादी होती है उस दिन भगवान्  शंकर दूल्हे के रूप में तैयार होते हैं उनके सर पर सेहरा लुभावना लगता है और यही नहीं मंदिरो में माँ पार्वती को हल्दी, मेहँदी ,कुमकुम एवं सुहाग की सभी सामग्री चढ़ाई जाती है।  उस दिन भक्तो को प्रसाद में ठंडाई मिलती है बाबा महाकाल की बारात निकली जाती है ।शिवरात्रि के बाद बाबा महाकाल का रिसेप्शन का आयोजन होता है। रिसेप्शन में विभिन्न प्रकार के पकवान बनाये जाते है और सारे भक्तो को खाने पर आने का न्योता दिया जाता है , जिसके लिए निमंत्रण पत्र भी छपवाया जाता है। रिसेप्शन पर आने के लिए भक्त दूर दूर से आते है एवं भगवन की प्रसादी का लुफ्त उठाते है उज्जैन में रिसेप्शन का आयोजन कई जगहों पर होता है और सभी भक्त प्रसादी पाकर आनंद अनुभव करते है ये सब देख कर लगता है वाकई बाबा महाकाल की लीला अपरम पार है ।

बाबा महाकाल का फूलो का सेहरा

 

॥ जय महाकाल ॥