इस प्रभावी मंत्र का जप कर आप पा सकते है संपूर्ण रामायण पाठ का फल..!!!

इस प्रभावी मंत्र का जप कर आप पा सकते है संपूर्ण रामायण पाठ का फल..!!!

प्रभावी मंत्र का जप कर आप पा सकते है संपूर्ण रामायण पाठ का फल
प्रभावी मंत्र का जप कर आप पा सकते है संपूर्ण रामायण पाठ का फल

हमारे सनातन धर्म में संपूर्ण रामायण का पाठ करना बेहद ही शुभ माना जाता है और पुराने लोगों के अनुसार ऐसा कहा गया है कि संपूर्ण रामायण का पाठ कराने से इंसान का जीवन खुशियों से भर जाता है और वो मरते दम तक पुण्य का भागी बन जाता है।

आज हम बता रहें है अगर आप कम समय में संपूर्ण रामायण पाठ का पुण्य फल प्राप्त करना चाहते हैं तो यहाँ बताएं जा रहे हैं एक ऐसा असरदार और

प्रभावी मंत्र का नियमित रुप से जप करें। इससे आप संपूर्ण रामायण का फल और पुण्य प्राप्त कर सकते हैं।रामायण में इस खास और प्रभावी मंत्र का वर्णन मिलता है जो संपूर्ण रामायण का फल देने की क्षमता रखता है।

मंत्र-

आदि राम तपोवनादि गमनं, हत्वा मृगं कांचनम्।

वैदीहीहरणं जटायुमरणं, सुग्रीवसंभाषणम्।।

बालीनिर्दलनं समुद्रतरणं, लंकापुरीदाहनम्।

पश्चाद् रावण कुम्भकर्ण हननम्, एतद्धि रामायणम्।।

इस मंत्र का विधि-विधान के साथ नियमित रुप से जप करने से पुण्य फल की प्राप्ति होती है।इसके लिए आपको रुद्राक्ष की माला हाथ में लेकर प्रभू श्रीराम की प्रतीमा के सामने आसन लगाकर बैठना है और इस मंत्र का 108 बार जाप करना हैं ।गौरतलब है कि इस मंत्र का जप करना बेहद ही आसान है और इसमें ज्यादा समय भी नहीं लगता है, इसलिए अगर आप भी संपूर्ण रामायण पाठ का फल पाना चाहते हैं तो फिर इस मंत्र के जप से आपको अवश्य लाभ

होगा ।जल्द ही पुण्य और शुभ फल की प्राप्ति के लिए हर रोज पांच माला का जप करें।

॥ जय श्री राम ॥