आखिर क्यों मना है शिंगणापुर शनि मंदिर में पीछे मुड़कर देखना, पढ़ें!!!

आखिर क्यों मना है शिंगणापुर शनि मंदिर में पीछे मुड़कर देखना!!!

किसी जातक पर यदि शनिदेव की कृपा है तो उसे रंक से राजा बनते देर नहीं लगती लेकिन, शनिदेव को प्रसन्न करना इतना आसान नहीं है। महाराष्ट्र के अहमदनगर जिले में स्थित शिंगणापुर का शनि मंदिर चमत्कारिक माना जाता है। मान्यता है कि इस गांव की रक्षा खुद शनिदेव करते हैं। शिंगणापुर स्थित शनि मंदिर से जुड़ी एक दिलचस्प कथा है।

शिंगणापुर शनि मंदिर
शिंगणापुर शनि मंदिर

क्या है शनिदेव की कहानी

कहते हैं एक बार शिंगणापुर गांव में काफी बाढ़ आ गई। पानी इतना बढ़ गया कि सबकुछ डूबने लगा। लोगों का कहना है कि उस भयंकर बाढ़ के दौरान कोई दैवीय शिला पानी में बह रही थी। जब पानी का स्तर कुछ कम हुआ तो एक इसांन ने पेड़ पर एक बड़ा सा पत्थर देखा। ऐसा अजीबोगरीब पत्थर उसने आज तक नहीं देखा था। उसने लालचवश पत्थर को नीचे उतारा। उसे तोड़ने के लिए जैसे ही उसमें कोई नुकीली चीज मारी उस पत्थर में से खून बहने लगा। यह देखकर वह भागा और गांव वापस लौटकर उसने सबको यह बात बताई।

सभी दोबारा उस जगह पर पहुंचे, जहां वह पत्थर रखा था। सभी उसे देखकर भौचक्के रह गए। लेकिन उनकी समझ में यह नहीं आ रहा था कि आखिरकार इस चमत्कारी पत्थर का क्या करें। इसलिए अंतत: उन्होंने गांव वापस लौटकर अगले दिन फिर आने का फैसला किया। उसी रात गांव के एक शख्स के सपने में भगवान शनि आए और बोले ‘मैं शनि देव हूं, जो पत्थर तुम्हें आज मिला उसे अपने गांव में लाओ और स्थापित करो’।

शिंगणापुर शनि मंदिर
शिंगणापुर शनि मंदिर

यह है मान्यता-

कहते हैं मंदिर में कथित तौर पर कोई पुजारी नहीं है। भक्त प्रवेश करके शनि देव जी के दर्शन करके सीधा मंदिर से बाहर निकल जाते हैं। रोजाना शनिदेव की मूर्ति पर सरसों के तेल से अभिषेक किया जाता है। मंदिर में आने वाले भक्त अपनी इच्छानुसार यहां तेल का चढ़ावा भी देते हैं। ऐसी मान्यता भी है कि जो भी भक्त मंदिर के भीतर जाए वह केवल सामने ही देखता हुआ जाए। उसे पीछे से कोई भी आवाज लगाए तो मुड़कर देखना नहीं है। शनिदेव को माथा टेक कर सीधा-सीधा बाहर आ जाना है।

Loading...