कल है अधिक मास की आखिरी एकादशी व्रत, जानें शुभ मुहूर्त, व्रत विधि, पूजा विधि और कथा…

अधिक मास चल रहा है|अधिकम मास की एकादशी का विशेष महत्व है |अधिक मास की आखिरी एकादशी परम एकादशी नाम से जानी जाती है|पंचांग के मुताबिक 13 अक्टूबर 2020 को मंगलवार के दिन आश्विन मास की कृष्ण पक्ष की एकादशी की तिथि को परम एकादशी कहा जाता है।परम एकादशी अधिक मास की अंतिम एकादशी होती है ।

इस वर्ष परम एकादशी व्रत 13 अक्टूबर दिन मंगलवार को रखा जाएगा। परम एकादशी परम पावन होती है।मान्यता यह है कि एकादशी तिथि भगवान विष्णु को अत्यंत प्रिय है जो भी व्यक्ति एकादशी की तिथि पर व्रत रखता है वह भगवान विष्णु के प्रिय भक्तों की श्रेणी में शामिल हो जाता है ।इसलिए अधिक मास में आने वाली एकादशी का महत्व और भी विशेष माना गया है।

जानिए एकादशी का महत्व :

अधिकमास एकादशी विष्णु भगवान के भक्तों को परम सुख देने वाली मानी गई हैं । इस एकादशी का व्रत करने से विष्णु भगवान की कृपा बनी रहती है । यह मान्यता है कि जो लोग अधिक मास के कृष्ण पक्ष में आने वाली एकादशी का व्रत रखते हैं वह बैकुंठ धाम को प्राप्त करते हैं।बैकुंठ धाम की प्राप्ति करने के लिए ऋषि-मुनि एवं संत आदि हजारों वर्षो तपस्या करते हैं। परंतु एकादशी का व्रत इतना अधिक प्रभावशाली होता है कि इसके माध्यम से भी बैकुंठ धाम प्राप्त कर मोक्ष की प्राप्ति की जा सकती है ।

परम एकादशी का शुभ मुहूर्त

शुभ मुहूर्त 13 अक्टूबर दिन मंगलवार की रात 8 बजकर 40 मिनट से लेकर रात 10 बजकर 10 मिनट तक रहेगा ।

एकादशी तिथि आरम्भ होगी 12 अक्टूबर दिन सोमवार की दोपहर 4 बजकर 38 मिनट से ।

एकादशी तिथि समापन 13 अक्तूबर दिन मंगलवार की दोपहर 2 बजकर 35 मिनट तक

परम एकादशी की पूजा विधि

परम एकादशी के दिन सूर्योदय से पहले उठकर स्नानादि करें, इसके पश्चाद साफ पीले रंग के वस्त्र पहनें । फिर एक चौकी लेकर उस पर पीले रंग का कपड़ा बिछा दीजिए ।फिर उस पर लाल कुमकुम से स्वास्तिक बनाइए ।चावल व फूलों से कुमकुम की पूजा करें ।इसके पश्चाद चौकी पर भगवान विष्णु की तस्वीर या प्रतिमा विराजमान करें ।

दीप, धूप तथा अगरबत्ती जलाएं और उनको फूलों का हार चढ़ा कर मस्तक पर चंदन का तिलक लगाए। साथ ही विष्णु भगवान को उनका अत्यंत प्रिय तुलसी का पत्ता भी अर्पित करें ।विष्णु चालीसा, विष्णु स्तुति, विष्णु स्तोत्र, विष्णु सहस्त्रनाम तथा परम एकादशी व्रत की कथा पढ़ें। इसके पश्चाद भगवान विष्णु के मंत्रों का जाप करें।फिर भगवान विष्णु की आरती कर उन्हें भोग लगाइए ।इसी तरह व्रत वाले दिन सूर्यास्त होने के बाद भी पूजा करें।