इस मंदिर में रंग बदलती है माता लक्ष्मी की मूर्ति, दर्शन मात्र से होती है हर इच्छा पूर्ण :

पचमठा मंदिर के नाम से प्रसिद्ध यह मंदिर एक जमाने में पूरे देश के तांत्रिकों के लिए साधना का विशेष केन्द्र हुआ करता था।

मध्‍यप्रदेश के जबलपुर में स्‍थित पचमठा मंदिर कई मायनों में अनोखा मंदिर है। इस मंदिर में कई देवी देवताओं की प्रतिमा विराजमान है। इस मंदिर की सबसे बड़ी विशेषता है यहां स्थापित माता लक्ष्मी की प्राचीन प्रतिमा, जिसके बारे में बहुत सी कथाएं प्रचलित है।

ऐसा बताया जाता है कि ये प्रतिमा दिन में तीन बार रंग बदलती है। दर्शनार्थियों के अनुसार, सुबह में प्रतिमा सफेद, दोपहर में पीली व शाम को नीली हो जाती है। कहा जाता है कि इस मंदिर का र्निमाण गोंडवाना शासन में रानी दुर्गावती के विशेष सेवापति रहे दीवान अधार सिंह के नाम से बने अधारताल तालाब में कराया गया था।

ऐसा बताया जाता है कि इस मंदिर में अमावस की रात भक्तों का तांता लगा रहता है। पचमठा मंदिर के नाम से प्रसिद्ध यह मंदिर एक जमाने में सम्पूर्ण देश के तांत्रिकों के लिए साधना का विशेष केन्द्र हुआ करता था। ऐसा कहा जाता है कि मंदिर के चारों तरफ श्रीयंत्र की विशेष रचना है।

सूर्य की पहली किरण मां के पैरों को छूती है :

ऐसा बताया जाता है कि इस मंदिर का निर्माण करीब 11 सौ साल पूर्व कराया गया था। इसके अंदरूनी भाग में श्रीयंत्र की अनूठी संरचना की गयी । खास बात यह है कि आज भी सूर्य की पहली किरण मां लक्ष्मी की प्रतिमा के चरणों को छूती है।

शुकवार का है विशेष महत्‍व :

जैस कि हम सभी जानते हैं कि शुक्रवार का दिन माता लक्ष्मी का दिन माना जाता है। यही कारण है कि मा लक्ष्मी के इस मंदिर में हर शुक्रवार विशेष भीड़ रहती है। ऐसा बताया जाता है कि सात शुकवार यहां पर आकर मां लक्ष्‍मी के दर्शन कर लिए जाएं तो हर मनोकामना पूरी हो जाती है।