जानिए भगवान शिव के हर मंदिर में क्यो विराजमान है नंदी महाराज :

जहां भी भगवान शिव की पूजा होती है या जहां भी शिव भगवान की महिमा की बात होती है वहां नंदी का ज़िक्र भी आता ही है। अकसर देखा जाता है कि शिव भगवान की मूर्ति के सामने या उनके मंदिर के बाहर शिव के वाहन नंदी की मूर्ति स्थापित होती है ।आपने कभी सोचा है कि शिव भगवान के परिवार के साथ सदैव भगवान शिव का वाहन नंदी क्यों विराजमान है । तो आइए जानते हैं नंदी महाराज को उनका वाहन बनने का वरदान कैसे प्राप्त हुआ और हर मंदिर में उनकी प्रतिमा क्यूँ विराजमान है ।

यहाँ है नंदी महाराज के वरदान का उल्लेख :

शिवपुराण में के मुताबिक शिलाद ऋषि के कोई भी संतान नहीं थी। इसी कारण उनके मन में अपने वंश के समाप्त हो जाने की चिंता सताने लगी । इसे दूर करने के लिए उन्होंने शिव भगवान की घोर तपस्या में लीन हो गए ।

प्रसन्न होकर शिव भगवान उनके समक्ष प्रकट हुए तथा शिलाद ऋषि द्वारा वर मांगने पर उन्हें एक ऐसे पुत्र का वरदान दिया जो जन्म व मृत्यु के बंधन से मुक्त था। भगवान शिव के वरदान से नंदी महाराज की उत्पत्ति हुई ।

नंदी महाराज की शिव भगवान में अटूट श्रद्धा थी । यह देखकर भगवान शिव तथा माता पार्वती ने अपने समस्त गणों और वेदों के सामने नंदी को गणों में प्रमुख स्थान प्रदान किया । इसके पश्चफ नंदी को नन्दीश्वर के नाम से जाना जाने लगा ।

जब शिव भगवान ने दिया नंदी को वरदान :

कुछ समय बाद नंदी का विवाह मारुतों की पुत्री सुयशा के साथ हो गया । तब शिव भगवान ने नंदी को वरदान दिया की जहाँ भी वह निवास करेंगे सदैव उस नंदी भी आवश्यक रूप से होंगें। तभी से शिव भगवान के मंदिरों में नंदी को आवश्यक रूप से स्थापित किया जाने लगा।