इन 4 भावो से की गयी पूजा चली जाती है व्यर्थ, नही मिलता है उसका फल !!

इन 4 भावो से की गयी पूजा चली जाती है व्यर्थ, नही मिलता है उसका फल  !!

नारद पुराण भगवान विष्णु को समर्पित ग्रंथ है इस में भगवान विष्णु की पूजा अर्चना करने की विधि और महत्व के बारे में बताया गया है। नारद पुराण में चार ऐसी भावना बताई गई है। जिसे भगवान की पूजा की जाए तो मनुष्य को पूजा का लाभ नहीं लगता है नारद पुराण में बताई गई चार भावनाएं जिनसे की गई पूजा जो फल नहीं देती।

1 जो मनुष्य किसी लालच उसे या किसी स्वार्थ से भगवान की पूजा अर्चना करता है उसका फल उसे कभी नहीं मिलता लालच के की गई पूजा शुभ फल देने वाली नही होती है।

2 कुछ लोग दूसरों के कहने पर या घर वालों के दबाव में आकर भगवान की पूजा करने लगते हैं ।बिना मन से या दूसरों के कहने पर की गई पूजा निशफल होती है।

3 बिना ज्ञान से या अधूरे ध्यान से पूजा नहीं करनी चाहिए पूजा विधि का ज्ञान न होने पर गलत विधि से पूजा या हवन किया जाए तो उसके नकारात्मक प्रभाव भी झेलने पड़ सकते है।

4 कई लोगों किसी ना किसी डर से भगवान की पूजा करने लगते है। ऐसे भाव से ही गई पूजा का फल नहीं मिलता है मनुष्य को पूजा शांत और पवित्र मन से करना चाहिए।

Add a Comment

Your email address will not be published.