मृत्यु के समय जिसके जिसके पास होती है ये चीजे यमदूत उसे नर्क नही ले जाते !!

मृत्यु के समय जिसके जिसके पास होती है ये चीजे यमदूत उसे नर्क नही ले जाते !!

प्राचीन काल में ऋषि मुनि की देव दानव ,आदित्य के बल पर भगवान को प्रसन्न कर मनचाही सिद्धिया प्राप्त करते थे। आज विज्ञान इतनी तरक्की कर गया है की चुटकियों में लगभग सभी इच्छाएं पूरी हो जाती है कल और आज में यदि कुछ परिवर्तित नहीं हुआ है। तो वह है मृत्यु का अटल सत्य जो कल भी परमात्मा के हाथ में थी और आज भी है। संसार क्षणभंगुर है जो जीव इस संसार में आया है वह मृत्यु में विलीन अवश्य होगा। सनातन धर्म के शास्त्रों की माने तो मृत्यु उपरांत दो तरह से गति होती है । अच्छे कर्म करने वाला स्वर्ग का सुख भोग  पाता है और बुरे कर्मों का फल नर्क की यातनाओं के रूप में मिलता है । नर्क का नाम सुनते ही शरीर में विराजित आत्मा कांप उठती है नर्क से बचने के लिए शास्त्रों में बहुत से उपाय बताए गए कुछ ऐसी चीज है जो मृत्यु के वक्त व्यक्ति के पास हो तो यमदूत उसे नर्क नहीं ले जाते हैं शरीर से जब प्राण निकलते हैं तो उस पीड़ा से भी राहत दिलवाते हैं ।

1.तुलसी का पौधा घर के पास हो अथवा तुलसी का पत्ता मस्तक पर हम यमराज दोनों ही परिस्थितियों में व्यक्ति के पास नहीं आते। शास्त्र कहते हैं तुलसी विष्णु प्रिय है तभी तो भगवान के मस्तिष्क पर शोभा पाती है ।

2.मृत्यु के समय मुंह में गंगाजल होने से तन और मन दोनों ही पवित्र हो जाते हैं । धर्म शास्त्र कहते हैं जब कोई शुद्धता से शरीर का त्याग करता है तो उसे हम दर्द से राहत मिलती है ।

3.श्रीमद् भागवत गीता का पाठ अंत समय में जिस के कानों में पड़ता है उस व्यक्ति का शरीर से मोर समाप्त हो जाता है दुख सहे बिना आत्मा शरीर का त्याग करती है । और मुक्ति पाती है इसके अतिरिक्त अपने धर्म ग्रंथ को सुनते हुए प्राण त्यागने वाला नर्क का कष्ट नहीं भोगता अंत समय में इस संबंध में सोचा जाता है मृत्यु उपरांत वैसी ही गति होती है ।

Loading...