इस हनुमान मंदिर मे हनुमान को यह चीज अर्पित करने से होती है भक्तों की मनचाही शादी!!!

इस हनुमान मंदिर मे हनुमान को यह चीज अर्पित करने से होती है भक्तों की मनचाही शादी!!!

हनुमान जी और शादी दोनों एक दूसरे के विपरीत है क्योंकि बजरंग बली तो खुद ही बल ब्रह्मचारी है, आजीवन कुंवारे थे तो फिर उनका शादी ब्याह से क्या लेना देना?

लेकिन ये बात एक दम सौ टका सही है की एक ऐसा मंदिर में जहाँ हनुमान जी करवाते है भक्तों की मनचाही शादी।

अब मैया सीता और भगवान् राम को भी तो वनवास के बाद मिलाने में सबसे बड़ी भूमिका हनुमान जी ने ही तो निभाई थी। तो जितने भी हमारे कुंवारे पाठक और पाठिकाएं है जो सोच रहे है कि शादी कर लें लेकिन एक अच्छे, मनपसन्द साथी की तलाश में है. ऐसे लोगों की समस्या का समाधान है हनुमान जी।वैसे तो बजरंगबली खुद बाल ब्रह्मचारी है लेकिन इसका ये मतलब नहीं कि वो अपने भक्तों को भी इसी प्रकार बल ब्रह्मचारी ही रहने देते है।हनुमान जी बहुत उदार है और उनके दर पर आया हुआ कोई भी भक्त खाली हाथ नहीं जाता. फ़िर वो चाहे शादी की ही इच्छा लेकर क्यों ना आये।

मध्यप्रदेश के जबलपुर शहर से लगभग 20 किलोमीटर दूर एक क़स्बा है आगासौद। इस कसबे में हनुमान जी का एक बहुत प्रसिद्द और प्राचीन मंदिर है। इस मंदिर के हनुमान को शादी वाले हनुमान कहा जाता है।कहा जाता है यहाँ के हनुमान जी को मिठाई आदि नहीं फूल पसंद है और वो भी कोई ऐसे वैसे फूल नहीं लाल गुलाब। जो भी भक्त यहाँ हनुमान जी को लाल गुलाब चढ़ाता है उसकी मनोकामना ज़रूर पूरी होती है। वैसे तो इस मंदिर में सब मनोकामनाएं पूरी होती है लेकिन मनचाही शादी की मुराद पूरी करना इस मंदिर की सबसे बड़ी खासियत है।

इसलिए जहाँ आम तौर पर मंदिरों में युवाओं को कम देखा जाता है उसके उलट शादी वाले हनुमान के मंदिर में युवा युवक और युवतियों की भीड़ लगी रहती है। कोई अपना प्रेम विवाह करवा देने की मन्नत मांगता है तो कोई अपनी पसंद का साथी। इसके अलावा यहाँ ऐसे लोग भी आते है जिनकी शादी में देरी हो रही हो या कोई रुकावट आ रही हो।

तो इंतज़ार किस बात का है यदि आपको भी अपने प्रेमी या प्रेमिका के साथ विवाह बंधन में बंधना है या मनपसन्द साथी की तलाश करनी है तो एक बार शादी वाले हनुमान को आजमाकर देखो। यदि भक्ति काम कर गयी तो जय सिया राम, नहीं काम करी तो फिर आपको कोई और तरीका बताएँगे शादी करवाने का।