मंगलसूत्र है सुहाग की निशानी;जानिए क्यों, पढ़िए मंगलसूत्र की महत्ता…!!!

धार्मिक कहानी(Religious Story)

हमारे हिन्दू धर्म में विवाह के मौके पर मंगलसूत्र (mangalsutra) पहनाने की एक बहुत ही महत्वपूर्ण रस्म होती है। हिंदू धर्म में फेरों के उपरांत वर वधू के गले में मंगलसूत्र (mangalsutra) पहनाता है।

मंगलसूत्र
मंगलसूत्र

मंगलसूत्र (mangalsutra) को विवाह का प्रतीक चिन्ह और सुहाग(Suhaag) की निशानी माना जाता है। मंगलसूत्र (mangalsutra) वैवाहिक प्रतिकों में सबसे महत्वपूर्ण स्थान रखता है।

शब्द ‘मंगलसूत्र’ दो शब्दों का संगम है। मंगल का अर्थ है पवित्र या शुभ और सूत्र का अर्थ है धागा। यह एक पवित्र हार है। जब लड़का किसी लड़की के गले में डालता है तो वह उसे अपनी पत्नी और जीवन साथी का दर्जा देता है।

मंगलसूत्र महिला का गहना
मंगलसूत्र महिला का गहना

धागे में पिरोए काले मोती और सोने का पेंडिल से बना मंगलसूत्र (mangalsutra) सुहागन स्त्रियों के लिए पहनना जरूरी होता है। इसकी तुलना किसी अन्य आभूषण से नहीं की जा सकती है। प्राचीन काल से ही मंगलसूत्र (mangalsutra) को विवाह के दौरान ही पहनाया जाता है और पति की मृत्यु के बाद ही उतारा जाता है।

पौराणिक कथा (Mythological Story)

इसे पति की कुशलता के साथ भी जोड़ा जाता है।  इसलिए भी मंगलसूत्र (mangalsutra) पहनना अनिवार्य माना गया है। ज्योतिष शास्त्र के मतानुसार स्वर्ण पर बृहस्पति देव(Brahaspati Dev) का प्रभाव होता है। बृहस्पति देव वैवाहिक जीवन में खुशहाली, संपत्ति एवं ज्ञान के प्रतिक माने जाते हैं। यह धर्म के कारक भी है। काला रंग शनि का प्रतिनिधित्व करता है।

विवाह के मौके पर मंगल सूत्र पहनाने की एक बहुत ही महत्वपूर्ण रस्म होती है।
विवाह के मौके पर मंगल सूत्र पहनाने की एक बहुत ही महत्वपूर्ण रस्म होती है।

शनि(Shani) स्थायित्व एवं निष्ठा का कारक ग्रह होता है। गुरू और शनि के बीच संबंध होने के कारण मंगलसूत्र (mangalsutra) वैवाहिक जीवन में सुख लाने वाला माना जाता है। शादीशुदा महिलाएं जहां जाती हैं वहां वे आकर्षण का केंद्र होती हैं। ऐसे में मंगलसूत्र के काले मोती उसे बुरी नजर से बचाते हैं।

ऐसा भी कहा जाता है कि मंगलसूत्र (mangalsutra) का सोने का हिस्सा माता पार्वती(Parwati) को दर्शाता है ।उसमें लगी हुईं काली मोतियां भगवान शिव(Shiv) को दर्शाती हैं। हिन्दू धर्म में माता पार्वती और भगवान शिव के वैवाहिक जीवन को सबसे ऊपर समझा जाता है। हर कोई चाहता है कि उनका रिश्ता भी शिव-पार्वती की तरह पवित्र और सफल हो।

मंगलसूत्र एक पवित्र हार है
मंगलसूत्र एक पवित्र हार है

माना जाता है कि विवाहित स्त्री अपने पति के जीवन रक्षा और अपने वैवाहिक जीवन की रक्षा के लिए ही मंगलसूत्र (mangalsutra) पहनती है। आपको बता दे कि मंगलसूत्र (mangalsutra) के काले मोती स्त्री औऱ उसके पति को बुरी नजर से बचाते है। वहीं सोने का पेंडल भी तेज औऱ ऊर्जा का प्रतीक माना जाता है।

Loading...