शनि मंदिर जाते हैं तो भूल से भी वहां जाकर ऐसा काम ना करें !! नही तो शनि देव हो जाएंगे आपसे नाराज !!

पूरी दुनिया में अलग अलग धर्मों में भगवान के सामने आना और उन्हें नमन करना उनकी प्रार्थना करना हर वक्त अपने अपने तरीके से करता है लेकिन हिंदू धर्म में हाथ जोड़कर भगवान को प्रणाम करने का प्रचलन है ऐसे हिंदू धर्म के सभी देवी देवताओं के सामने हाथ जोड़कर नमन किया जाता है। यादव सीधे खड़े होकर किया जाता है या नीचे बैठकर हाथ जोड़कर भगवान से अपने मन की बात कही जाती है और उनकी प्रार्थना की जाती है लेकिन हिंदू धर्म के एक ऐसे भी भगवान है जिनके सामने कभी भी हाथ नहीं जोड़ना चाहिए। सुनकर आप हैरान होंगे लेकिन यह बात सच है कि हिंदू धर्म के एक ऐसे भगवान हैं जिनके सामने हाथ जोड़ना अशुभ माना जाता है और अगर आपने ऐसा किया तो आपको आपकी प्रार्थना का कोई भी फल नहीं मिलेगा तो आइए जानते हैं कौन से है वह भगवान जिन के सामने इस प्रथा को नहीं किया जाता है।

दोस्तों यह भगवान है कर्मफल दाता शनि देव सूर्य के पुत्र शनि देव के सामने आप जब भी जाए उनके लिए प्रार्थना जरुर करें लेकिन बिना हाथ जोडे। शास्त्रों के अनुसार कहा जाता है कि कर्म फल दाता शनि देव की प्रार्थना करने से उनकी आराधना करने से और उन्हें प्रसन्न करने से जीवन की सभी परेशानियां खत्म हो जाती है लेकिन अगर आप ठीक तरीके से उनकी प्रार्थना पूजन अर्चन या उनकी आराधना नहीं करेंगे तो वक्त उन की क्रूर दृष्टि का शिकार भी हो जाते हैं।

शास्त्रों में बताया गया है कि भगवान शनिदेव के मंदिर में जाते समय कुछ नियमों का पालन करना आवश्यक होता है जैसे सबसे पहला नियम है कि शनिदेव के मंदिर में कभी भी सूर्य की रोशनी में नहीं जाना चाहिए या तो सूर्य उदय होने से पहले आप शनिदेव के मंदिर जाए या फिर सूर्य के अस्त होने के बाद ही शनि देव के मंदिर में जाएं और साथ ही जब आप मंदिर में जाएं तो शनि देव की मूर्ति के सामने कभी भी हाथ जोड़कर अपनी मनोकामना नाम बोलें और ना ही उनकी प्रार्थना और पूजन अर्चन करें।

अगर आप ऐसा करते हैं तो भगवान शनि देव आपसे रुष्ट हो जाएंगे और आपको उनकी क्रूर दृष्टि का सामना भी करना पड़ सकता है।जब भी आप शनिदेव के मंदिर जाए तो हाथ जोड़ने की जगह पर उनके सामने अपना शीश झुकाकर खड़े हो जाएं और अपने दोनों हाथों को कमर के पीछे ले जाकर बांधकर प्रार्थना करें या नमन करें। ऐसा करने के बाद शनिदेव से अपने बुरे कर्मों की शमा याचना करें।और उनसे कहे कि जो काम उन्हें पसंद नहीं है वह आज से आप नहीं करेंगे कहा जाता है कि शनि देव को वचन के पक्के और इमानदार भक्त ही पसंद आते हैं लेकिन जो भक्त उनके वचनों का पालन नहीं करता है वह उन्हें दंड भी जरूर देते हैं।