पूजा करते वक्त महिलाएँ क्यों ढकती हैं सिर,क्या है इसके पीछे कारण..!!!

पूजा करते वक्त महिलाएँ क्यों ढकती हैं सिर,क्या है इसके पीछे कारण..!!!

हमारे हिन्दू धर्म में महिलाओं को सिर ढ़ककर पूजा करने की बात कही जाती है और ऐसा होता भी है हमारे घर में या बाहर कोई भी मंगल कार्य या पूजा पाठ होती है वहां महिलाये सर जरूर ढकती है । जब भी हम मंदिर जाते है तो हम भगवान के दर्शन करते वक़्त सिर ढ़ककर पूजा अर्चना करते हैं। भगवान के सामने मत्था टेकने से पहले सिर ढंकने पर ज़ोर दिया जाता है।

लेकिन क्या कभी आपने सोचा आखिर क्या है इसके पीछे का कारण क्यों पूजा करते वक्त महिलाएँ ढकती हैं सिर, अगर नहीं तो चलिए आज हम आपको बताते हैं । ऐसा करने से आप आदर देते हैं । पुरानी मान्यता है जिसको आप आदर देते हैं उनके आगे हमेशा सिर ढ़क कर जाते हैं इसी कारण कई महिलाएं जब भी अपने सास-ससुर या बड़ों से मिलती हैं तो सिर ढ़क लेती हैं।ऐसा करने का एक और कारण ये भी है की इससे दिमाग भटकता नहीं ऐसा माना जाता है कि सिर ढ़कने से मन एकाग्र रहता है।

दिमाग भटकता नहीं और इंसान का ध्यान केवल एक बिंदु पर ही रहता है। वेदों की माने तो सिर के मध्य में सहस्त्रारार चक्र होने से इसपर जल्दी प्रभाव पड़ता है और ऐसा कहा जाता है सहस्त्रारार चक्र पर पूजा करते वक्त निगेटिव चीजों का असर नहीं होना चाहिए इस कारण सिर ढ़ककर पूजा करनी चाहिए ताकि हमारी सकारात्मक ऊर्जा बनी रहें ।

तो अब तो आप जान गए न क्यों महिलाये सर ढकती है,तो अब जब भी आप मंदिर जाए तो अपना सर जरूर ढक लें।

Loading...