जब इंद्रदेव ने मां लक्ष्मी से पूछा, कुछ लोग अमीर तो कुछ गरीब क्यों रहते हैं ?

हर व्यक्ति चाहता है कि वह धन-धान्य से परिपूर्ण हो। उसके यहां किसी भी प्रकार का कोई अभाव न रहे। लेकिन कुछ लोगों पर माता लक्ष्मी की कृपा होती है जिसके कारण उनके के पास धन की कोई कमी नहीं रहती है। परंतु कुछ लोग ऐसे होते हैं जो बहुत मेहनत और मां लक्ष्मी की आराधना करने के पश्चात् भी दरिद्र रह जाते हैं। पौराणिक कथाओं में इसका कारण भी बताया गया है। 
 

पौराणिक कथा के मुताबिक एक बार इंद्रदेव ने मां लक्ष्मी से प्रश्न किया कि आपकी पूजा व आराधना हर मनुष्य करता है। फिर भी कुछ लोग अमीर तो कुछ गरीब क्यों रह जाते हैं। इस प्रश्न का उत्तर देते हुए श्री हरि की संगिनी मां लक्ष्मी ने कहा आवश्यक नहीं  है कि मेरी सिर्फ पूजा करने पर  हर व्यक्ति को धन की प्राप्ति हो क्योंकि पूजा के साथ व्यक्ति को कर्म भी अच्छे होना जरुरी होता है। प्रत्येक मनुष्य अपने कर्मों के मुताबिक गरीब या अमीर होता है। माता लक्ष्मी ने इंद्रदेव को इस बारें में बताते हुए कहा कि पूजा करने के साथ पूरी श्रद्धा और सम्मान रखना भी आवश्यक होता है। तो जानते हैं और किन कारणों से नहीं होता है मां लक्ष्मी का वास..

जो लोग अन्न का निरादर करते हैं मां लक्ष्मी उनके यहा वास नही करती है। जो लोग भोजन का निरादर करते हैं भोजन को बीच में छोड़कर उठ जाते हैं या अत्यधिक भोजन का उपभोग करते हैं उनके यहां भी मां लक्ष्मी कभी नहीं ठहरती हैं। ऐसे लोग अन्न व धन दोनों के लिए परेशानरहते हैं। ऐसे लोगों के यहां कभी भी सुख-शांति नहीं रहती है।
 
 
 
 जिस घर में क्लेश या झगड़ा होता है वहां माता लक्ष्मी वास नहीं करती हैं। मां लक्ष्मी उस घर में कभी वास नहीं करती है जहां पर हर समय झगड़ा या बिना बात के शोर होता रहता हो। जहां पर शांति का अभाव हो माता लक्ष्मी की कृपा वहां नहीं होती है। इसलिए घर में शांति व खुशी का वातावरण रखना चाहिए।

जहां स्त्रियों का सम्मान नहीं होता है वहां माता लक्ष्मी वास नहीं करती हैं। स्त्रियों को माता लक्ष्मी और अन्नपूर्णा का स्वरुप माना गया है इसलिए कभी भी किसी स्त्री या फिर अपने घर की महिला का अपमान नहीं करना चाहिए। जिन लोगों के घर में स्त्रियों का सम्मान नहीं होता है वहां पर माता लक्ष्मी वास नहीं करती हैं। ऐसे घर से माता लक्ष्मी रुष्ट होकर चली जाती हैं।