इस बुधवार पढ़िए..!!उज्जैन के अनोखे लक्ष्मीप्रदाता मोद गणेश के बारे में..!!!

इस बुधवार पढ़िए..!!उज्जैन के अनोखे लक्ष्मीप्रदाता मोद गणेश के बारे में..!!!

उज्जैन में ऐसे तो अनेक मंदिर हैं जिसमें भगवान किसी ना किसी रूप में विराजित हैं वहीँ प्रसिद्ध महाकाल मंदिर में कोटितीर्थ पर इमली के पेड़ के नीचे स्थित है श्री लक्ष्मीप्रदाता मोद गणेश मंदिर । इस भव्य मंदिर में श्री गणेशजी के साथ में माँ अंबिका की मूर्ति है । भगवान राम ने उज्जैयनी में ६ गणेश जो षडगजानन के नाम से जाने जाते है की स्थापना  की थी । उन्ही में से एक श्री मोद गणेश है । इसका उल्लेख स्कंदपुराण के अवंतिका खंड के महांकाल वन में है । भगवान राम के द्वारा स्थापना किये जाने के कारण इस मंदिर का विशेष महत्व है । मंदिर के पुजारी श्री सत्यनारायणजी व्यास ने बताया कि पंडित सूर्यनारायण व्यास इन गणेशजी के दर्शन करने प्रतिदिन आते थे । इन्ही के आशीर्वाद से पंडित सूर्यनारयणजी व्यास प्रकांड विद्वान बने ।

प्रति बुधवार एवं चतुर्थी पर पूजा करने का विशेष महत्व है । गणेश चतुर्थी से अनंत चौदस तक विशेष उत्सव मनाया जाता है। यह मंदिर दर्शनार्थियों के लिये सुबह ९ बजे से रात्रि ९ बजे तक खुला रहता है ।

॥ जय लक्ष्मीप्रदाता मोद गणेश ॥

Loading...