आज जानिए..!!हनुमानजी के मंदिर में क्यों चढ़ाई जाती है लाल रंग की ध्वजा..!!!!

आज जानिए..!!हनुमानजी के मंदिर में क्यों चढ़ाई जाती है लाल रंग की ध्वजा..!!!!

राम भक्त हनुमान
राम भक्त हनुमान

हनुमान जी हिन्दुओं के महान देवता है।बहुत कम लोगों को पता होगा कि हनुमान मंदिरों पर और प्रतिमाओं पर लाल रंग की ध्वजा क्यों लहराती है। दरअसल लाल रंग भी मंगल का प्रतीक है इसके साथ ही यह चेतावनी भी देता है कि यदि आप संयम और सतर्कता से अपनी जीवनचर्या नहीं चलाएंगे तो खतरे में पड़ सकते हैं।हनुमान मंदिर में लाल झंडा उनकी विजयी का प्रतीक  माना जाता है।लाल ध्वज चढ़ाने के पीछे एक और कारण यह है की हनुमान जी को लाल रंग बहुत पसंद है। ध्वज के साथ साथ  हनुमान जी को तो सिंदूर का पूरा चोला चढाने की परम्परा है।उन्हें सिंदूर और तेल का चोला चढ़ाने से निश्चित रूप से इसका असर मनुष्य की तेजस्विता पर पड़ता है और शरीर को लाभ मिलता है।

जिन लोगों को शनिदेव की पीड़ा हो उन्हें बजरंग बली को तेल,सिंदूर का चोला अवश्य चढ़ाना चाहिए। हनुमानजी को सिंदूर का चोला चढ़ाया जाता है इसके चढ़ाने के पीछे उनकी प्रसन्नता प्राप्त करना ही मुख्य उद्देश्य होता है लेकिन असल में सिंदूर और तेल का चोला चढ़ाने से मूर्ति का स्पर्श होता है तथा इससे सकारात्मक उर्जा प्राप्त होती है।हनुमानजी की प्रतिमा को सिंदूर का चोला चढ़ाने के पीछे वैज्ञानिक कारण भी है। हनुमानजी को सिंदूर लगाने से प्रतिमा का संरक्षण होता है। इससे प्रतिमा किसी प्रकार से खंडित नहीं होती और लंबे समय तक सुरक्षित रहती है। साथ ही चोला चढ़ाने से प्रतिमा की सुंदरता बढ़ती है, हनुमानजी का प्रतिबिंब साफ-साफ दिखाई देता है। जिससे भक्तों की आस्था और अधिक बढ़ती है तथा हनुमानजी का ध्यान लगाने में किसी भी श्रद्धालु को परेशानी नहीं होती।

लाल रंग ऊर्जा का प्रतीक होता है और हनुमान जी हमें सदैव ऊर्जावान बनने की शिक्षा देते है, इसलिए हनुमान जी के मंदिरों पर लाल ध्वजा दिखाई देता है  ।

॥ जय हनुमान ॥

78 Comments

Add a Comment

Your email address will not be published.