अगर करते है कुलदेवी/कुलदेवता की पूजा तो रखे इन बातो का विशेष ध्यान!!! अन्यथा होगा अनर्थ!!

अगर करते है कुलदेवी/कुलदेवता की पूजा तो रखे इन बातो का विशेष ध्यान!!!

हिन्दू पारिवारिक आराध्य व्यवस्था में कुल देवता/कुलदेवी का स्थान सदैव से रहा है प्रत्येक हिन्दू परिवार किसी न किसी ऋषि के वंशज हैं जिनसे उनके गोत्र का पता चलता है बाद में कर्मानुसार इनका विभाजन वर्णों में हो गया विभिन्न कर्म करने के लिए जो बाद में उनकी विशिष्टता बन गया और जाती कहा जाने लगा |

पूर्व के हमारे कुलों अर्थात पूर्वजों के खानदान के वरिष्ठों ने अपने लिए उपयुक्त कुल देवता अथवा कुलदेवी का चुनाव कर उन्हें पूजित करना शुरू किया था ताकि एक आध्यात्मिक और पारलौकिक शक्ति कुलों की रक्षा करती रहे जिससे उनकी नकारात्मक शक्तियों/उर्जाओं और वायव्य बाधाओं से रक्षा होती रहे तथा वे निर्विघ्न अपने कर्म पथ पर अग्रसर रह उन्नति करते रहे |

अगर करते है कुलदेवी/कुलदेवता की पूजा तो रखे इन बातो का विशेष ध्यान!!!
अगर करते है कुलदेवी/कुलदेवता की पूजा तो रखे इन बातो का विशेष ध्यान!!!

समय क्रम में परिवारों के एक दुसरे स्थानों पर स्थानांतरित होने धर्म परिवर्तन करने आक्रान्ताओं के भय से विस्थापित होने जानकार व्यक्ति के असमय मृत होने संस्कारों के क्षय होने विजातीयता पनपने इनके पीछे के कारण को न समझ पाने आदि के कारण बहुत से परिवार अपने कुल देवता /देवी को भूल गए अथवा उन्हें मालूम ही नहीं रहा की उनके कुल देवता /देवी कौन हैं या किस प्रकार उनकी पूजा की जाती है | कुल देवता /देवी की पूजा छोड़ने के बाद कुछ वर्षों तक तो कोई ख़ास अंतर नहीं समझ में आता किन्तु उसके बाद जब सुरक्षा चक्र हटता है तो परिवार में दुर्घटनाओं नकारात्मक ऊर्जा वायव्य बाधाओं का बेरोक-टोक प्रवेश शुरू हो जाता है उन्नति रुकने लगती है पीढ़िया अपेक्षित उन्नति नहीं कर पाती|

आज हम आपको बताने जा रहे है कि जब आप अपने कुल देवी या देवता की पूजा करे तो भुलकर भी यह गलतियां ना करें| इससे सिर्फ आपको ही नहीं बल्कि पुरे परिवार को नुकसान होता है|

1.जब भी आप घर में कुलदेवी की पूजा करे तो सबसे जरूरी चीज होती है पूजा की सामग्री| पूजा की सामग्री इस प्रकार ही होना चाहिये- ४ पानी वाले नारियल,लाल वस्त्र ,10 सुपारिया ,8 या 16 श्रंगार कि वस्तुये ,पान के 10 पत्ते , घी का दीपक,कुंकुम ,हल्दी ,सिंदूर ,मौली ,पांच प्रकार कि मिठाई ,पूरी ,हलवा ,खीर ,भिगोया चना ,बताशा ,कपूर ,जनेऊ ,पंचमेवा |

2.ध्यान रखे जहा सिन्दूर वाला नारियल है वहां सिर्फ सिंदूर ही चढ़े बाकि हल्दी कुंकुम नहीं |जहाँ कुमकुम से रंग नारियल है वहां सिर्फ कुमकुम चढ़े सिन्दूर नहीं |

3.बिना रंगे नारियल पर सिन्दूर न चढ़ाएं ,हल्दी -रोली चढ़ा सकते हैं ,यहाँ जनेऊ चढ़ाएं ,जबकि अन्य जगह जनेऊ न चढ़ाए |

4.पांच प्रकार की मिठाई ही इनके सामने अर्पित करें|  साथ ही घर में बनी पूरी -हलवा -खीर इन्हें अर्पित करें|

5. ध्यान रहे की साधना समाप्ति के बाद प्रसाद घर में ही वितरित करें ,बाहरी को बिल्कुल न दें|

6.इस पूजा में चाहें तो दुर्गा अथवा काली का मंत्र जप भी कर सकते हैं ,किन्तु साथ में तब शिव मंत्र का जप भी अवश्य करें|

10. सामान्यतय पारंपरिक रूप से कुलदेवता /कुलदेवी की पूजा में घर की कुँवारी कन्याओं को शामिल नहीं किया जाता और उन्हें दीपक देखने तक की मनाही होती है| तो घर की कुँवारी कन्याओं इस पूजा से दूर रखें अन्यथा देवी देवता नाराज हो जाते है |

 

 

Add a Comment

Your email address will not be published.