किसी भी कुदृष्टि से बचने के लिए सुबह उठते ही बोले यह मंत्र, बन जायेगा आपके शरीर पर अदृश्य सुरक्षा-कवच

किसी भी कुदृष्टि से बचने के लिए सुबह उठते ही बोले यह मंत्र, बन जायेगा आपके शरीर पर अदृश्य सुरक्षा-कवच !!

प्रातकाल सुबह उठते ही अपनी खुली हथेली को अपने सामने रखिए फिर अपने मित्रों को खोलकर हथेली को देखते हुए इस मंत्र का उच्चारण करें।

कराग्रे वसते लक्ष्मी करमध्ए सरस्वती करमूले स्थितो महागौरी प्रभाते कर दर्शनम्।।

इस मंत्र के उच्चारण के बाद आप अपने हथेली का घर्षण करें अर्थात अपने दोनों हाथों को एक दूसरे के साथ घिसे और धीरे-धीरे हथेली को शरीर के सभी अंगों पर स्पर्श करें ऐसा करने से आपके शरीर के चारों ओर एक अदृश्य सुरक्षा कवच का आवरण बन जाता है। जो किसी भी कुदृष्टि के प्रभाव से आप को सुरक्षित रखता है।

Loading...