जीवन की हर समस्या का समाधान है श्री कृष्णा के इन मंत्रो में !!!जरुर करे मंत्रो का जाप मिलेगा सौ फिसदी परिणाम!!

जीवन की हर समस्या का समाधान है श्री कृष्णा के इन मंत्रो में !!!जरुर करे मंत्रो का जाप मिलेगा सौ फिसदी परिणाम!!

हिन्दू मान्यताओं के अनुसार विष्णु जी के सभी अवतारों में से दो ऐसे अवतार हैं जिन्होंने देश-दुनिया में सबसे अधिक प्रसिद्धि पाई है। वे हैं सातवें अवतार श्रीराम एवं आठवें अवतार श्रीकृष्ण, इसके अलावा अन्य अवतारों के बारे में वही जानता है जिसने हिन्दू धार्मिक इतिहास की अच्छी जानकारी प्राप्त की हो।हम आपको भगवान श्री कृष्ण से संबंधित  ऐसे मंत्रो के बारे में बताने जा रहे है जिनसे भक्त अपने जिंदगी में सुख-समृद्धि और ऐशवर्य प्राप्त कर सकता है। यह मन्त्र काफी सरल है लेकिन फिर भी ध्यान रहे की इनका उच्चारण सही प्रकार से हो।

हिन्दू मान्यताओं के अनुसार सही उच्चारित मंत्र ही सही फल प्रदान करते है। और मंत्रों का गलत उच्चारण कई बार तबाही का कारण भी बन जाता है। क्योंकि वह अपने सही फल की बजाय विपरीत फल प्रदान कर देता है।

1 . ”कृं कृष्णाय नमः”

इस मन्त्र के उच्चारण करने से मनुष्य को उसके अटके धन की प्राप्ति होती है तथा घर-परिवार में सुख सम्पति की वर्षा होती है।

2 .”ऊं श्रीं नमः श्रीकृष्णाय परिपूर्णतमाय स्वाहा ”

भगवान श्री कृष्ण का यह मन्त्र साधारण नहीं है। यह सप्तदशाक्षर महामंत्र है। अन्य मन्त्र 108 बार जप करने से सिद्ध हो जाते है परन्तु इस मन्त्र का जाप एक लाख बार करने से सिद्ध होता है।

3 . ”गोल्ल्भय स्वाहा”

यह मन्त्र दिखने में तो सिर्फ दो अक्षर के लग रहे है परन्तु इन मंत्रो में सात शब्दों का प्रयोग किया गया है। यदि इस मन्त्र के उच्चारण में थोड़ी सी भी चूक हो जाए तो यह मन्त्र सिद्ध नहीं होता है।

4.“ॐ नमो भगवते श्रीगोविन्दाय”

अभी तक जितने भी मंत्र हमने बताए वह सभी सुख एवं संपदा से जुड़े हैं लेकिन यह ऐसा मंत्र है जो विवाह से जुड़ा है। जी हां… जो जातक प्रेम विवाह करना चाहते हैं लेकिन किन्हीं कारणों से हो नहीं रहा तो वे प्रात: काल में स्नान के बाद ध्यानपूर्वक इस मंत्र का 108 बार जाप करें। कुछ ही दिनों में उन्हें चमत्कारी फल प्राप्त होगा।

5.“ऐं क्लीं कृष्णाय ह्रीं गोविंदाय श्रीं गोपीजनवल्लभाय स्वाहा ह्र्सो”

यह मंत्र उच्चारण में थोड़ा कठिन जरूर है लेकिन इसका प्रभाव उतना ही तेज़ है। यह मंत्र वाणी का वरदान देता है।

6.“ॐ श्रीं ह्रीं क्लीं श्रीकृष्णाय गोविंदाय गोपीजन वल्लभाय श्रीं श्रीं श्री”

यह 23 अक्षरों वाला श्रीकृष्ण मंत्र है जो जीवन में किसी भी प्रकार की बाधा को दूर करने मंं सहायक सिद्ध होता है।

 

Loading...