जानिए आखिर क्यों भगवान शिव को प्रिय है कैलाश…!!!!

आज हम आपको भगवान शिव से जुड़ी कुछ रहस्य बताते हैं।

– भगवान शिव को क्यों लगाई जाती हैं भस्म
भस्म को भगवान शिव का वस्त्र बताया गया है जिसके पीछे वैज्ञानिक तथा आध्यात्मिक कारण होता हैं। भस्म को शरीर पर लगाने से सर्दी में सर्दी और गर्मी में गर्मी नहीं लगती। यह त्वचा संबंधित रोगों का भी निवारण करती हैं।भस्मी धारण करने वाले शिव यह संदश भी देते हैं कि परिस्थितियों के अनुसार अपने आपको ढालना सीखों।

– भगवान शिव के प्रिय नंदी

हर कोई जानता हैं कि भगवान शंकर के वाहन उनके प्रिया नंदी यानि बैल हैं। बैल बहुत ही मेहनती जीव होते हैं। वह बेहद शांत और शक्तिशाली होते हैं। ऐसे ही भगवान शिव पूरे संसार में प्रसिद्ध हैं। बैल सदैव मेहनत करता हैं वह कभी नहीं थकता अपना कार्य पूर्ण होने तक वह मेहनत करता है ऐसे ही भगवान शिव भी हमें करने को कहते हैं, की सदैव अपना कर्म करते रहना चाहिए।

– क्यों है भगवान शिव के मस्तक पर चंद्रमा-

भगवान शिव के प्रसिद्ध नामों में से एक भालचंद्र भी हैं। जिसका मतलब मस्तक पर चंद्रमा धारण करने वाला । भगवान शिव के चंद्रमा को धारण करने के पीछे का कारण यह था कि चंद्रमा की किरणें शीतलता प्रदान करती हैं। इस ही तरह भगवान शिव भी हमें कितनी भी बड़ी समस्या आ जाए दिमाग शांत ही रखना को ही कहते हैं। भगवान शिव का चंद्रमा धारण करने का अर्थ है मन को सदैव अपने काबू में रखना । मन भटकेगा तो लक्ष्य प्राप्त नहीं हो पाएगा।

– भगवान शिव क्यों हैं श्मशान के निवासी।
भगवान शिव को परिवार का देवता कहा जाता हैं पर ऐसा क्या कारण हैं जिसके चलते वह शम्शान में निवास करते हैं? संसार मोह माया से घिरा हुआ हैं वही श्मशान वैराग्यों से। भगवान शिव कहते हैं कि संसार में रहते हुए अपने कर्तव्य पूरे करों, लेकिन मोह माया से दूर रह कर। क्योंकि संसार तो नश्वर हैं।एक न एक दिन तो सब खत्म हो जाना हैं।

– भूत – प्रेत शिव के गण

भगवान शिव को संहार का देवता कहा जाता हैं जो कोई भी मर्यादा तोड़ने लगता हैं भगवान शिव उसे दंड भी देते है। चाहे वो कोई भी क्यों न हो। इसलिए शिव को भूत – प्रेतों का देवता भी कहा जाता हैं।

– भगवान शिव का प्रिय स्थान कैलाश

भगवान शिव का निवास कैलाश पर्वत कहा जाता हैं। जहां तक सिर्फ सिद्ध पुरूष ही पहुंच पाते हैं। भगवान शिव कैलाश पर्वत पर योग में लीन रहते हैं। ऐसा माना जाता हैं कि जो कोई भी सिद्धि पाने की इच्छा रखता हैं तो उसे एक एकांत स्थान पर ही साधना करनी चाहिए । इसलिए कैलाश पर्वत भगवान शिव का प्रिय स्थान माना जाता हैं।