जरूर पढ़े..!!किस वक़्त कौन सा मंत्र जपने से दूर होगा बुरा समय..!!!

जरूर पढ़े..!!किस वक़्त कौन सा मंत्र जपने से दूर होगा बुरा समय..!!!

हमारे शास्त्रों में पूजा-पाठ करने के अलावा भी कुछ और समय ऐसे बताए गए हैं,जब हमें मंत्र जाप करना चाहिए और ऐसा करना बहुत ही लाभकारी माना गया है।शास्त्रों में अलग-अलग समय के लिए अलग मंत्र भी बताए गए हैं। इन मंत्रों के जाप से देवी-देवताओं की कृपा मिलती है और बुरे समय से मुक्ति मिल सकती है और इसी वजह से मंत्र जाप की परंपरा पुराने समय से चली आ रही है। मंत्र जाप करने से स्वास्थ्य को भी लाभ मिलते हैं। आज

हम आपको बता रहें है दिन के किस समय कौन से खास मंत्र बोलना चाहिए,तो आइये पढ़ते है:

  • खाना खाने से पहले बोलें ये मंत्र

ऊँ सहनाववतु सहनौभुनक्तु सहवीर्यं करवावहै, तेजस्विना वधीतमस्तु मां विद्विषावहै।

ॐ शान्तिः शान्तिः शान्तिः।

मंत्र का अर्थ- हम सभी एक-दूसरे की रक्षा करें। हम साथ-साथ भोजन करें। हम साथ-साथ काम करें। हम साथ-साथ उज्जवल और सफल भविष्य के

लिए अध्यनन करें। हम कभी भी एक-दूसरे से घृणा न करें।

  • सोने से पहले बोलना चाहिए ये मंत्र

जले रक्षतु वाराहः स्थले रक्षतु वामनः।

अटव्यां नारसिंहश्च सर्वतः पातु केशवः।।

मंत्र का अर्थ- भगवान श्रीहरि आप अलग-अलग रूपों में इस ब्रह्मांड में मेरी रक्षा करें। पाताल लोक में वाराह देव रक्षा करें। पृथ्वी पर वामन रूप में रक्षा

करें। आकाश में नरसिंह भगवान रक्षा करें और सभी दिशाओं में भगवान केशव मेरी रक्षा करें।

  • सुबह उठने के बाद हथेलियां देखते हुए बोलें ये मंत्र

कराग्रे वसते लक्ष्मी, करमूले सरस्वती

करमध्ये तू गोविंद प्रभाते कर दर्शनं।

मंत्र का अर्थ- हमारे हथेली के आगे वाले भाग पर महालक्ष्मी और हथेली के मूल भाग में सरस्वती का वास है। हथेली के बीच में भगवान विष्णु का वास है। इन सभी के हम दर्शन करते हैं।

 

Loading...