क्या आप जानते है शनि देव ने की है काशी विश्वनाथ की स्थापना…!!जरूर पढ़े…!!!

क्या आप जानते है शनि देव ने की है काशी विश्वनाथ की स्थापना…!!जरूर पढ़े…!!!

आप बिलकुल सही पढ़ रहे है काशी विश्वनाथ की स्थापना शनि देव ने स्वयं की है उन्होंने ऐसा क्यों करा उसका लेख स्कन्द पुराण के काशी खण्ड में आता है।स्कन्द पुराण के अनुसार शनिदेव ने अपने पिता भगवान सूर्य देव से एक बार २ वरदान मांगे

  • पहले में माँगा की मै ऐसा पद प्राप्त करना चाहता हूँ, जिसे आज तक किसी ने प्राप्त नही किया, साथ ही साथ सूर्य देव से कहा आपके मंडल से मेरा मंडल सात गुना बडा हो, मुझे आपसे अधिक सात गुना शक्ति प्राप्त हो, मेरे वेग का कोई सामना नही कर पाये, चाहे वह देव, असुर, दानव, या सिद्ध साधक ही क्यों न हो। आपके लोक से मेरा लोक सात गुना ऊंचा रहे।

  • तथा दूसरे वरदान मैं यह प्राप्त करना चाहता हूँ, कि मुझे मेरे आराध्य देव भगवान शिव के प्रत्यक्ष दर्शन हों, तथा मै भक्ति ज्ञान और विज्ञान से पूर्ण हो सकुँ।

शनिदेव की यह बात सुन कर भगवान सूर्य प्रसन्न तथा गदगद हुए,और उन्हें इसके लिए एक सच्चा मार्ग बताया।उन्होंने कहा इसके लिये शनि देव को तप करना होगा, तप करने के लिये उन्हें काशी जाना होगा ,वहां जाकर भगवान शंकर का घनघोर तप कर, और शिवलिंग की स्थापना करनी होगी , तथा भगवान शंकर से मनवांछित फ़लों की प्राप्ति करनी होगी। शनि देव ने पिता की आज्ञानुसार वैसा ही किया, और तप करने के बाद भगवान शंकर के वर्तमान में भी स्थित शिवलिंग की स्थापना की, जो आज भी काशी-विश्वनाथ के नाम से जाना जाता है,जो हिन्दू धर्म का एक प्रमुख तीर्थ स्थल है।

 

॥जय शनि देव ॥
॥जय काशी विश्वनाथ ॥

Loading...