जानिये इस अध्बुध मंदिर के बारे मे जहा देवी कि गर्दन साल भर रहती है तिरछी, नवरात्रि में हो जाती सीधी !!!

यहा देवी कि गर्दन साल भर रहती है तिरछी, नवरात्रि में हो जाती सीधी!!!

नवरात्रि के दिनो मे माता के चमत्कार के बारे मे आपने सुना ही होगा। आज हम आपको ऐसे ही एक अध्बुध मंदिर के बारे मे बताने जा रहे है जहा नवरात्रि के दिनो मे माता कि गर्दन सिधी हो जाती है नवरात्रि के दिनो को छोड़कर माता कि गर्दन तिरछी ही रहती है पर नवरात्रि के दिनो मे माता कि गर्दन सिधी हो जाती है ।आइये जानते है इस मंदिर के बारे मे।

साल भर रहती है गर्दन तिरछी, नवरात्रि में हो जाती सीधी
साल भर रहती है गर्दन तिरछी, नवरात्रि में हो जाती सीधी

रायसेन से 37 किमी दूर भोपाल मार्ग पर बिलखिरिया के समीप स्थित मां कंकाली का मंदिर देश भर में प्रसिद्द है।यूं तो वर्ष भर यहां श्रद्धालुओं का आना जाना लगा रहता है। लेकिन चैत्र और शारदेय नवरात्रि में यहां हजारों की संख्या में रोजाना श्रद्धालु पहुंचते हैं।माता के दर्शन करते हैँ उनकी पूजा अर्चना कर माता से सूखी जीवन का आशीर्वाद लेते है।मंदिर मे आने वाले हर श्रद्धालुओं कि मनोकामना अवश्य पूरी होती है जो भी यहा सच्चे मन से मता का पूजन करता है माता उनकी हर मनोकामना पूरी करती है। सबसे खास बात यह है कि मान्‍यता के अनुसार मंदिर में मां कंकाली की प्रतिमा में गर्दन का भाग तिरछा है जो नवरात्रि के दौरान अक्सर भक्तों को सीधी नजर आती है। माना जाता है कि इसे भक्त मां कंकाली का चमत्कार ही बताते हैं।

श्रद्धालु गोबर से उल्टे हाथ के निशान लगाते हैं

मां कंकाली मंदिर विकास एवं सेवा सार्वजनिक ट्रस्ट के दुर्गाप्रसाद के मुताबिक संतान प्राप्ति के लिए मंदिर पर श्रद्धालु गोबर से उल्टे हाथ के निशान लगाते हैं।मनोकामना पूरी होने पर हाथों के सीधे निशान बना दिए जाते हैं। यहां हाथों के हजारों निशान बने हुए हैं। नवरात्र में बड़ी संख्या में लोग पहुंच रहे हैं।
 कंकाली माता मंदिर
कंकाली माता मंदिर