जानिए..!!कैसा हो आपके बैडरूम का गेट और पलंग..!!

बैडरूम ही वह जगह है जहां जाकर शांति और आराम के कुछ पल बिताए जाते हैं। वास्तु अनुसार बैडरूम हमारे कष्टों को दूर करता है और हमारे जीवन में प्रसन्नता लाता है। वहीं अगर बैडरूम में वास्तुदोष हो तो न ठीक से नींद आती है और न ही किसी काम में मन लगता है। ऐसे में बैडरूम के वास्तु को ठीक करना बहुत आवश्यक होता है। आइये जानते है वास्तु के अनुसार कैसा हो बैडरूम:

  • वास्तुशास्त्र के अनुसार बैडरूम में पलंग द्वार के पास नहीं होना चाहिए इससे व्याकुलता और अशांति बनी रहेगी।
  • बैडरूम का गेट एक पल्ले का होना चाहिए।
  • गृहस्वामी का बैडरूम दक्षिण-पश्चिम कोण में अथवा पश्चिम दिशा में होना चाहिए। वास्तुशास्त्र के अनुसार दक्षिण-पश्चिम अर्थात नैऋर्त्य कोण पृथ्वी तत्व अर्थात स्थिरता का प्रतीक माना जाता है।

  • बच्चों, अविवाहितों अथवा मेहमानों के लिए पूर्व दिशा में बैडरूम होना चाहिए, वास्तुशास्त्र के अनुसार इस कक्ष में नवविवाहित जोड़े को नहीं ठहरना चाहिए।
  • अगर गृहस्वामी को अपने कार्य के सिलसिले में अक्सर टूर पर रहना पड़ता हो तो वास्तुशास्त्र के अनुसार बैडरूम वायव्य कोण में बनाना श्रेयस्कर होगा।

  • बैडरूम में पलंग इस तरह हो कि उस पर सोते हुए सिर पश्चिम या दक्षिण दिशा की ओर रहे। इस तरह सोने से प्रातः उठने पर मुख पूर्व अथवा उत्तर दिशा की ओर होगा। पूर्व दिशा सूर्योदय की दिशा है, यह बहुत शुभ है।

Loading...