क्या चाहतें है आप की जो भी जाप आप करें तो उसका फल आपको निश्चित रूप से मिले तो जरुर करें इन नियमों का पालन जाप करते समय !!

क्या चाहतें है आप की जो भी जाप आप करें तो उसका फल आपको निश्चित रूप से मिले तो जरुर करें इन नियमों का पालन जाप करते समय !!

हिंदू धर्म में पूजा करते समय देवता को प्रसन्न करने के लिए वह किसी भी ग्रहों के अनिष्ट को दूर करने के लिए मंत्र जाप करने का विधान है। विधि विधान पूर्वक मंत्र जाप करने से कई समस्याओं का समाधान अपने ही आप हो जाता है। मंत्रों की शक्ति को हमारे ऋषि मुनि अच्छी तरह से जानते थे मंत्र जाप के लिए कुछ नियमों का पालन आवश्यक होता है। इन नियमों के बारे में जानने के लिए नीचे दी गई बातों को अवश्य पढ़ें।


1 कोई शास्त्रीय बेदी क्या सिद्ध गुरु द्वारा प्रदान मंत्र को ही जाप के लिए चलना चाहिए इन्हीं से शुभ फल प्राप्त होते हैं
2 मंत्र जाप से पहले शाप विमोचन एवं विनियोग ( पूजा शुरु करने की पहले की क्रिया) करना भी जरूरी है
3 साधक मंत्र का जाप करने वाला को शारीरिक व मानसिक पवित्रता का पालन अनिवार्य रूप से करना चाहिए
4 मंत्र का जाप निश्चित समय निश्चित दिशा निश्चित स्थान व शांत वातावरण में करना चाहिए
5मंत्र का जाप करने वाला सत्य ब्रह्मचर्य आक्रोश अल्पाहार आदि बातो का ध्यान रखना चाहिए
6 मंत्रों का जाप करने वाले को मितभाषी एवं पवित्र नैतिक जीवन के नियमों का पालन करना जरूरी है
7 मंत्र जाप से पहले 550 धूप दीप नैवेद्य पुष्प आरती पूजन करना अनिवार्य है