जानिये हनुमान जी ने किया था विवाह पुरे रीती रिवाजों के साथ ……

महावीर हनुमान जी को बाल ब्रह्मचारी माना जाता है। यह बात पूरी तरह सत्य है लेकिन ऐसा नहीं है कि हनुमान जी अविवाहित थे। हनुमान जी का पूरी रीति रिवाज और मंत्रों के साथ विवाह हुआ था और इनका एक पुत्र भी था।

लेकिन हनुमान जी के विवाह के बारे में बताने से पहले आपको यह बता दें कि हनुमान जी और उनकी पत्नी का एक मंदिर भी है जो की आंध्र प्रदेश के खम्मम जिले में स्थित है यह एक बहुत प्राचीन मंदिर है  ऐसी मान्यता है कि इस मंदिर में जाकर पति-पत्नी हनुमान जी और उनकी पत्नी का दर्शन करते हैं उनका वैवाहिक जीवन सुखद और आपसी प्रेम बना रहता है।

ऎसी मान्यता है कि हनुमान जी के गुरु सूर्य देव ने हनुमान जी के सामने यह शर्त रख दी कि अब आगे कि शिक्षा तभी प्राप्त कर सकते हो जब तुम विवाह कर लो। कारण यह था कि जहां तक हनुमान जी शिक्षित हो चुके थे उसके आगे की शिक्षा अविवाहित व्यक्ति को नहीं दी जा सकती थी।

ऎसे में हनुमान जी ने सूर्य की पुत्री सुवर्चला से रीति रिवाज और वैदिक मंत्रों के साथ विवाह कर लिया |किन्तु ब्रह्मचारी होने के कारण वे गृहस्थ जीवन में नहीं उतरे | हनुमान जी के विवाह का उल्लेख पराशर संहिता में किया गया है |इस तरह हनुमान जी ने विवाह की शर्त पूरी कर ली और ब्रह्मचारी रहने का व्रत भी कायम रहा। हनुमान जी के विवाह का उल्लेख पराशर संहिता में भी किया गया है।