हनुमान भक्तों को खुश कर देंगे ‘हनुमान चालीसा’ से जुड़े ये खास तथ्य..!!!!

धार्मिक कथा(Religious Story)

सभी हनुमान(Hanuman) भक्तों के लिए मंगलवार(mangalwar) का दिन खास है। वे इस दिन हनुमानचालीसा (Hanuman Chalisa) का जाप करते हैं। शक्ति और साहस का प्रतिक माने जाते है बजरंगबली ।

हनुमान जी
हनुमान जी

उनकी इस चालीसा में 3 दोहे और 40 चौपाई लिखी गई हैं। यह तो सभी भक्त जानते ही है की हनुमानचालीसा को कवि तुलसीदास ने लिखा । शायद यह नहीं जानते होंगे की हनुमानचालीसा को सबसे पहले खुद भगवान केसरीनन्दन ने सुनी थी।

अवधि भाषा में लिखी में लिखी गई चालीसा के पहले 10 चौपाई उन्हीं की शक्ति का बखान करती है। प्रसिद्ध कथा के अनुसार जब तुलसीदास(Tulsidas) ने रामचरितमानस(Ramayan) बोलना समाप्त किया तब तक सभी व्यक्ति वहां से जा चुके थे। लेकिन एक बूढ़ा आदमी वहीं बैठा रहा। वो आदमी और कोई नहीं बल्कि खुद केसरीनन्दन थे।

 हनुमान
हनुमान

बता दें सिर्फ मंगलवार(mangalwar) ही नहीं बल्कि किसी भी दिन लोग अपने मन से भय को भगाने के लिए चालीसा की कुछ चौपाई पढ़ते हैं। जिसमें से सबसे प्रसिद्ध है पहली चौपाई ‘जय हनुमान ज्ञान गुन सागर, जय कपीस तिहुँ लोक उजागर‘।

आज यहां हम आपको हनुमानचालीसा(Hanuman Chalisa) से जुड़े तथ्यों के बारे में बता रहे हैं। जिन्हे पढ़कर हर भक्त को ख़ुशी होगी।

हनुमान चालीसा के तथ्य

1.हनुमानचालीसा(Hanuman Chalisa) की शुरूआत दो दोहे से होती जिनका पहला शब्द है ‘श्रीगुरु’। इसमें श्री का संदर्भ सीता(seeta) माता है जिन्हें हनुमान जी अपना गुरु मानते थे।

2.कवि तुलसीदास अपने अंतिम दिनों तक वाराणसी में रहे। वहां उन्हीं के नाम का एक घाट भी है। जिसे नाम दिया गया ‘तुलसी घाट’। यहीं रहकर तुलसीदास ने हनुमान मंदिर भी बनाया जिसका नाम है ‘संकटमोचन मंदिर’।

 

हनुमान चालीसा से जुड़े ये खास तथ्य
हनुमान चालीसा से जुड़े ये खास तथ्य

3.हनुमानचालीसा(Hanuman Chalisa) को सबसे पहले खुद भगवान हनुमान ने सुना। प्रसिद्ध कथा के अनुसार जब तुलसीदास ने रामचरितमानस बोलना समाप्त किया ।तब तक सभी व्यक्ति वहां से जा चुके थे ।लेकिन एक बूढ़ा आदमी वहीं बैठा रहा। वो आदमी और कोई नहीं बल्कि खुद भगवान हनुमान थे। इस बात से तुलसीदास बहुत प्रसन्न हुए और तब उन्होंने उनसे जुड़ी 40 चौपाई कह डाली।

4.हनुमानचालीसा(Hanuman Chalisa) में वीरहनुमान के ऊपर 40 चौपाई लिखी गई हैं। यह चालीसा शब्द इन्हीं 40 अंक से मिला।

 हनुमान
हनुमान

5.चालीसा(Hanuman Chalisa) के पहले 10 चौपाई उनके शक्ति और ज्ञान का बखान करते हैं। 11 से 20 तक के चौपाई में उनके भगवान राम(Ram) के बारे में कहा गया। जिसमें 11 से 15 तक चौपाई भगवान राम के भाई लक्ष्मण पर आधारित है। आखिर की चौपाई में तुलसीदास ने पवनपुत्र की कृपा के बारे में कहा है।

हनुमान चालीसा के लाभ

1.अगर किसी को कोई अनजाना भय डरा रहा है।  तो उसे हर रात सोने से पहले हाथ पैर धोकर पवित्र मन से हनुमानचालीसा (Hanuman Chalisa) का पाठ करना चाहिए।
2.जो व्यक्ति नियमित हनुमानचालीसा(Hanuman Chalisa) का पाठ करता है। उसके आस-पास भूत-पिशाच और दूसरी नकारात्मक शक्तियां नहीं आती हैं।

हनुमान जी
हनुमान जी

3.हनुमानचालीसा(Hanuman Chalisa) पढ़ने से मन शांत होता है तनाव मुक्‍त हो जाता है।

4.कोई अपराध करने पर अगर आपको ग्‍लानि होती हैं और क्षमा मांगना चाहते है तो चालीसा का पाठ करें।
5.अगर किसी व्यक्ति पर शनि(Shani) का संकट छाया है तो उस व्यक्ति  का हनुमानचालीसा(Hanuman Chalisa) पढ़ना चाहिए। इससे उसके जीवन में शांति आती है।

॥ जय श्री राम ॥

॥ जय हनुमान ॥