आज के दिन हनुमान चालीसा का केवल एक उपाय,आपको आगे बड़ा सकता है….!!तो जरूर अपनाएँ..!!!

हनुमान चालीसा का केवल एक उपाय,आपको आगे बड़ा सकता है….!!तो जरूर अपनाएँ..!!!

हनुमान चालीसा में इतनी शक्ति होती है जिसकी हम और आप कल्पना भी नहीं कर सकते।हनुमान जी जिससे भी प्रसन्न होते है उसका कोई बाल भी बाक़ा नहीं कर सकता और न ही उसे कोई कष्ट सता सकता है हनुमान जी के भक्त को आगे बढ़ने से कोई नहीं रोक सकता है इसलिए इनकी पूरे संसार में पूजा की जाती हैं, लेकिन आज हम आपको बता रहे है हनुमान जी की पूजा विशेष तरीके से करने के कुछ ऐसे उपाय भी हैं, जिनको करने से हर मनोकामना पूरी हो जाती हैं। इसलिए आज हम आपको उसी उपाय के बारे में बताने जा रहे है, जिसे  करने के बाद आपको आगे बढ़ने से कोई भी ताकत नहीं रोक पाएगी।

हनुमान जी राम जी के एक ऐसे दूत हैं, जिनकी अराधना करने से मनुष्य जीवन के सभी कष्ट दूर हो जाते हैं। हनुमान जी को जो भक्त सच्चे मन से याद करता हैं। उसकी सभी परेशानियाँ पल भर में ही खत्म हो जाती हैं तथा जो भक्त इनकी चालीसा का पाठ करता हैं उस पर इनकी हमेशा कृपा बनी रहती हैं।आज हम आपको रामदूत की हनुमान चालीसा का एक ऐसा रामबाण उपाय बतायेंगे, जिसका प्रयोग करने से हनुमान जी के भक्त को आर्थिक तंगी, रोगों से तथा दुखों से छुटकारा मिल जाता हैं।

हनुमान जी की चालीसा का पाठ मंगलवार या शनिवार के दिन किया जा सकता हैं।इसके अलावा आप किसी भी शुभ मुहूर्त में तथा विपत्ति के समय में हनुमान जी की साधना कर सकते हैं।

उपाय को करने की विधि

  1. इस उपाय को करने के लिए सुबह ब्रहम मुहूर्त में उठें और अपने सभी दैनिक कार्यों को करने के बाद स्नान कर पवित्र वस्त्र धारण कर लें।
  2. अब हनुमान जी के मंदिर में जाकर उनकी प्रतिमा के सामने धूप – अगरबत्ती जलाएं, शुद्ध घी का दीपक जलाएं. फूल चढाएं तथा बूंदी के लड्डुओं का भोग लगायें.
  3. इसके बाद हनुमान जी की प्रतिमा के सामने एक आसन बिछाकर बैठ जाएँ और हनुमान चालीसा का लगातार बिना रुके ११ बार ज़प करें।
  4. हनुमान जी की चालीसा का पाठ घर पर भी किया जा सकता हैं।लेकिन घर पर हनुमान चालीसा का पाठ करने के लिए एक शांतिपूर्ण स्थान को चुने तथा पाठ की शुरुआत करने से पहले उस स्थान की साफ – सफाई अच्छी तरह से कर लें।

ऐसा करने से हनुमान जी की कृपा हम सब पर हमेशा बानी रहेगी।

॥ जय हनुमान ॥

 

20 Comments

Add a Comment

Your email address will not be published.