कैसा भी संकट हो बस करे आज करे दिन 11 पीपल के पत्तों का यह उपाय हनुमान जी भागे भागे आएँगे आपके घर !!

कैसा भी संकट हो बस करे आज करे दिन 11 पीपल के पत्तों का यह उपाय हनुमान जी भागे भागे आएँगे आपके घर !!

शास्त्रों के अनुसार हनुमानजी शीघ्र प्रसन्न होने वाले देवी-देवताओं में से एक हैं श्री रामचरित्र मानस में तुलसीदास जी के द्वारा माता सीता द्वारा पवनपुत्र हनुमान जी को अमरता का वरदान दिया गया है किसी वरदान के प्रभाव से इन्हें भी अष्टचिरंजीवी में शामिल किया जाता है।कलयुग में हनुमान जी अपने भक्तों की सभी मनोकामनाएं पूर्ण करते हैं बजरंगबली को प्रसन्न करने के लिए कई उपाय बताए गए हैं इन उपायों में से एक उपाय यह बताया जा रहा है।

अगर इस उपाय को विधिवत किया जाए तो बहुत जल्दी सकारात्मक फल की प्राप्ति होती है तो आइए जानते हैं कि कौन सा है वह उपाय।
यह उपाय है पीपल के पत्तों का श्री राम के अनन्य भक्त हनुमान जी की कृपा प्राप्त होते ही सभी दुख दूर हो जाते हैं ।पैसों से जुड़ी समस्याएं समाप्त हो जाती है कई रोग हो तो वहां भी नष्ट हो जाते हैं।

हनुमानजी की पूजा में पवित्रता का पूरा ध्यान रखना चाहिए यदि कोई व्यक्ति पैसों की तंगी का सामना कर रहा है तो उसे प्रति मंगलवार और शनिवार को पीपल के 11 पत्तों का यह उपाय अपनाना चाहिए।


इस उपाय के लिए आपको सप्ताह के प्रति मंगलवार और शनिवार को ब्रम्ह मुहूर्त में उठना होता है । अपने सारे नित्यकर्मों से निवृत होकर अपने घर के आस-पास या किसी भी पीपल के पेड़ से 11 पत्ते तोड़ने है। ध्यान रखें कि पत्ते पूरे होने चाहिए कहीं से भी खंडित या फिर टूटे हुए बिल्कुल भी नहीं होनी चाहिए वरना यह उपाय सफल नहीं होगा।

इसके बाद इन 11 पत्तों पर स्वच्छ जल से कुमकुम यहां अष्टगंध चंदन मिलाकर इससे श्रीराम का नाम लिखें। नाम लिखते समय हनुमान चालीसा का पाठ करें।

जब  सभी पत्तो पर श्रीराम लिख ले उसके बाद इन पत्तों की एक माला बनाकर किसी भी हनुमान जी के मंदिर जाकर वहां बजरंगबली को अर्पित करें ।इस प्रकार का उपाय करते रहें कुछ समय में सकारात्मक परिणाम आप को दिखने लगेंगे। ध्यान रहे कि यह उपाय करने वाला भक्त किसी भी प्रकार क्या धार्मिक कार्य न करें अन्यथा इस उपाय का प्रभाव निष्फल हो जाएगा उचित लाभ प्राप्त नहीं हो सकेगा साथ ही अपने कार्य और कर्तव्य के प्रति ईमानदार रहे । हनुमान जी हमेशा आप पर कृपा बरसाएंगे।

108 Comments

Add a Comment

Your email address will not be published.