जानिए क्यों यहाँ महिला के रूप में पूजे जाते हैं हनुमान जी ?

        यहाँ महिला के रूप में पूजे जाते हैं हनुमान जी

हनुमान जी को पुरुष रूप में सबने देखा होगा और उनकी पूजा अर्चना भी भक्तों ने बड़े मन से की होगी पर क्या आप जानते है शक्ति क़े देवता हनुमान को स्त्री क़े रूप में भी पूजा जाता है|लेकिन यही बात सत्य है और इस मंदिर के बारे में सबसे खास बात यह है कि इस मंदिर में मांगी हुई कोई भी इच्छा अधूरी नहीं रहती | यदि आप इस मंदिर में जाकर स्त्रीरूपी हनुमान जी की सच्चे मन से पूजा करेंगे तो हनुमान जी आपकी हर एक मनोकामना अवश्य पूरी करेंगे | शायद इसी कारण से इस मंदिर में रोज सैकड़ों की संख्या में लोग दर्शन करने आते हैं |

गिरजाबन्ध हनुमान मंदिर छत्तीसगढ़
गिरजाबन्ध हनुमान मंदिर छत्तीसगढ़

गिरजाबन्ध हनुमान मंदिर छत्तीसगढ़ के रतनपुर गांव में है। यह संसार का इकलौता मंदिर है, जहां हनुमान जी की नारी प्रतिमा की पूजा होती है। माना जाता है कि हनुमान जी की यह प्रतिमा दस हजार साल पुरानी है। जो भी भक्त श्रद्धा भाव से इस हनुमान प्रतिमा के दर्शन करते हैं, उनकी सभी मनोकामना पूरी होती है।

क्यों स्त्री रूप में विराजित है हनुमान जी ?

इस क्षेत्र मे भगवान हनुमान के नारी रूप में होने के पीछे एक कथा प्रचलित है। कथा के अनुसार, प्राचीन काल में रतनपुर के एक राजा थे पृथ्वी देवजू। राजा हनुमान जी के भक्त थे। राजा को एक बार कुष्ट रोग हो गया। इससे राजा जीवन से निराश हो चुके थे। एक रात हनुमान जी राजा के सपने में आए और मंदिर बनवाने के लिए कहा। मंदिर निर्माण का काम जब पूरा हो गया तब हनुमान जी फिर से राज के सपने में आए और अपनी प्रतिमा को महामाया कुण्ड से निकालकर मंदिर में स्थापित करने का आदेश दिया। जब राजा ने महामाया कुंड में भगवान हनुमान की प्रतिमा देखी तो वह नारी रूप में थी। राजा ने भगवान के आदेश के अनुसार भगवान हनुमान की उसी नारी रूपी प्रतिमा की स्थापना कर दी।

गिरजाबन्ध हनुमान मंदिर छत्तीसगढ़
गिरजाबन्ध हनुमान मंदिर छत्तीसगढ़

क्यों खास है यहाँ की मूर्ति ?

हनुमान जी की यह प्रतिमा दक्षिणमुखी है। इनके बायें कंधे पर श्री राम और दायें पर लक्ष्मण जी विराजमान हैं। हनुमान जी के पैरों के नीचे दो राक्षस हैं। मान्यता है कि हनुमान की प्रतिमा को स्थापित करने के बाद राजा ने कुष्ट रोग से मुक्ति एवं लोगों की मुराद पूरी करने की प्रार्थना की थी। हनुमान जी की कृपा से राजा रोग मुक्त हो गया और राजा की दूसरी इच्छा को पूरी करने के लिए हनुमान जी सालों से लोगों की मनोकामना पूरी करते आ रहे हैं।