अगर खत्म करना चाहते है अपने घर में होने वाली कलह तो जरूर करें गुरुवार को ये आसान उपाय…!!!

अगर खत्म करना चाहते है अपने घर में होने वाली कलह तो जरूर करें ये आसान उपाय…!!!

खत्म करना चाहते है अपने घर में होने वाली कलह तो जरूर करें ये आसान उपाय
खत्म करना चाहते है अपने घर में होने वाली कलह तो जरूर करें ये आसान उपाय

रिश्तों में कई बार मन मुटाव आ जाते है,जिसके चलते कलह  की स्थिति उत्पन्न होने लग जाती है लेकिन आज हम आपको कई धार्मिक उपाय बता रहे है जिसको करने से कलह दूर हो सकती है लेकिन इन उपायों को करते समय अपने इष्टदेव के प्रति श्रद्धा, मन में पवित्र भाव और विश्वास बनाए रखना ज़रूरी है वरना अपेक्षित परिणाम मिलना संभव नहीं है। रिश्तों में आ रही दरारों को भरने में समय लगता है। रोजमर्रा के क्लेश, झगड़े आदि कैसे कम हों, घर में सुख-शांति कैसे बने और रिश्तों में प्रेम कैसे पनप सके इसके लिए कुछ ऐसे उपाय जो धार्मिक शास्त्रों पर अध्ययन कर खोजकर निकाले गए हैं।

  • शुक्रवार के दिन गुप्त रूप से प्रातः स्नान के बाद भगवान श्री कृष्ण का ध्यान करते हुए छोटी इलायची के तीन नग अपने शरीर से स्पर्श कराकर सुरक्षित रख लें अथवा शनिवार के दिन प्रातः इलायची के दाने पीसकर किसी व्यंजन में मिलाकर परिवार के सदस्यों को खिला दें तो आपसी प्रेम व्यवहार की वृद्धि होने लगेगी।
  • सास-बहु की लड़ाई तो जगजाहिर है। अगर दोनों में ना बन रही हो तो बहु को चाहिए कि वह प्रत्येक पूर्णमासी को व्रत रखते हुए खीर बनाकर रात्रि में चंद्रदेव की शीतल धवल रोशनी में रखे और उस खीर को दूसरे दिन अपनी सास को मनुहार करके खिलाये।
  • इसी तरह अगर अपनी पुत्रवधु से ससुर नाराज चल रहे हो तो पुत्रवधु शुक्ल पक्ष के रविवार से आरंभ करके प्रतिदिन जल में गुड़ मिलाकर तांबे के पात्र से प्रातः स्नान के बाद सूर्यदेव को जल अर्पित करते हुए परिवार में सुख व शांति बने रहने की प्रार्थना करे। धीरे-धीरे रिश्ते सामान्य होने लगेंगे।

  • पति परमेश्वर के गुस्से से परेशान पत्नी के लिए भी एक आसान उपाय है। शुक्ल पक्ष के पहले रविवार या सोमवार या गुरूवार अथवा शुक्रवार को एक नए सफ़ेद रंग के वस्त्र या रूमाल में गुड़ की डली, चांदी एवं तांबे के दो सिक्के, एक मुट्ठी नमक तथा एक मुट्ठी साबुत गेहूं बांधकर बिना किसी को बताए चुपचाप अपने बैडरूम में किसी ऐसी जगह पर छुपाकर रखदे जहां पति की नजर उस पर न पड़े। प्रातः भोजन बनाते समय पहली रोटी बनाने के बाद उसके चार बराबर टुकड़े करे। उनमें से एक टुकड़ा गाय को, दूसरा काले रंग के कुत्ते को तथा तीसरा टुकड़ा कौवे को खिला दें जबकि चौथे टुकड़े को चुपचाप किसी चौराहे पर रखकर पीछे मुड़े बिना वापस लौट आएं।
  • पति एवं दूसरे सदस्यों में प्रेमभाव बढ़ने लगेगा।अकारण ही गृह क्लेश रहता हो तो शनिवार के दिन गेहूं पिसवाते समय किसी को बताये बिना उसमें थोड़े से काले चने भी मिलाकर पिसवा लें और उस आटे की रोटी प्रतिदिन खाएं तो गृह क्लेश में कमी आने लगेगी।
  • गुरूवार और शनिवार के दिन पीपल पर जल चढ़ाकर गरीबों को श्रद्धानुसार दान देने से घर-परिवार में सुख-शांति आएगी।रात्रि में सोने से पहले एक कटोरी में जल, एक लाल गुलाब, कुमकुम तथा थोड़े से साबुत चावल लेकर पास में रख लें और सुबह के समय मंदिर के पुजारी को दान कर दें। परिवार में शांति बनी रहेगी।
  • मंगलवार तथा शनिवार को नियम पूर्वक भगवान श्री राम एवं हनुमान जी का स्मरण व ध्यान करते हुए चालीस दिनों तक अखंड दीपक जलाने से सभी प्रकार की गृह बाधाएं, क्लेश और कष्ट दूर होने लगेंगें।
  • यदि आप चाहते हैं कि आपके घर में कोई परेशानी ना आए, वातावरण स्वच्छ रहे तो सबसे पहले घर से फालतू का सामान निकालकर बाहर कर दें।

  • सफाई के साथ-साथ आप स्वयं घर के वातावरण को और सुखद बना सकते हैं। इसके लिए सुबह समय से उठकर घर की सफाई करें और बाद में स्नान कर पूजा के बाद घर में भीनी खुशबू वाली अगरबत्तियां जला दें। ध्यान रहे कि इन अगरबत्तियों की सुगंध हल्की होनी चाहिए।
  • घर में नीले-काले रंग के पेंट आदि नहीं करवाना चाहिए, और ना ही इस रंग के पर्दों का प्रयोग करना चाहिए। घर के पूर्वी और उत्तर दिशा को हमेशा साफ रखें, इस दिशा में कभी भी कबाड़ या भारी सामान न रखें।
  • अतिरिक्त सुख पाने के लिए दान-पुण्य करते रहें। गरीबों को दान देने के अलावा बेज़ुबान जानवरों को भोजन खिलाना भी फलित माना गया है। इसलिए रोजाना घर की सबसे पहली रोटी में से कुत्ते, कौवे और गाय को हिस्सा जरूर दें।
  • लेकिन यदि आप किन्हीं कारणों से रोज़ाना यह कार्य करने से चूक रहे हैं, तो आप सप्ताह में एक बाद जरूर कर सकते हैं। और कुछ नहीं तो कम से कम सप्ताह में एक बार गायों की सेवा जरूर करें। उन्हें चारा खिलाएं, उनकी साफ-सफाई करें आपके द्वारा यह कार्य शास्त्रों के अनुसार फलित माना जाता है।
  • इस बात का ख्याल रखें कि घर का शौचालय, स्नानागार आदि हमेशा साफ-सुथरा हो। सफाई के साथ इसका वातावरण सही रहे इसके लिए इनमें हल्की खूशबू का हमेशा प्रबंध रखें।

  • ध्यान रखें कि रात के समय जूठे बर्तन और गंदे कपड़े भिगोकर न सोएं। अन्यथा आपके परिवार में एकता कभी नहीं बनेगी और घर के सभी लोग अपनी-अपनी इच्छा का दबाव बनाकर सब कुछ नष्ट कर देंगे।

 

Loading...