यहाँ मौजूद है 800 साल पुराना गौरी शंकर का चमत्कारी और अद्भुत मंदिर!!

यहाँ मौजूद है 800 साल पुराना गौरी शंकर का चमत्कारी और अद्भुत मंदिर!!

भारत देश में गौरी शंकर क अनेक मंदिर मौजूद हे| आज हम आपको गौरी शंकर के एक एसे ही मंदिर के बारे में बताएँगे जो 800 साल पुराना हे| यह एक अद्भुत मंदिर हे जो दिल्ली के चांदनी चौक में लाल किले के समीप ही मौजूद है| यह मंदिर भारत के शैव सम्‍प्रदाय के सबसे पुराने मंदिरों में से एक है। इसे कॉस्मिक पिलर या पूरे ब्रह्मांड का केंद्र माना जाता है। यह मंदिर आपा गंगाधर के द्वारा बनवाया गया था| आप गंगाधर एक मराठा सैनिक हे जो शिव के परम भक्त थे|

गोरी शंकर मंदिर

यह मंदिर 1761 में बनाया गया था। मंदिर की छत के पिरामिड के निचले हिस्‍से में आपा गंगाधर का नाम खुदा हुआ हे| 1959 में इस मंदिर को सेठ जयपुरा के द्वारा पुनर्निर्मित करवाया गया था, इसी कारण मंदिर की खिड़कियों पर उनका नाम भी खुदा हुआ है | मंदिर में भगवान शिव, उनकी पत्‍नी देवी पार्वती और उनके पुत्र गणेश और कार्तिक की मूर्ति स्थापित हे| शिव और पार्वती की सुसज्जित मूर्ति, शिवलिंग के पीछे स्थित हैं। शिवलिंग के ऊपर एक चांदी का बर्तन रखा है जिससे सतत् रूप से पानी शिवलिंग पर गिरता रहता है। गौरी शंकर मंदिर के पास अन्‍य आकर्षण लाल किला और जामा मस्जिद है।

पोराणिक मान्यताओ के अनुसार आपा गंगाधर एक युद्ध में घायल हो गए थे और तब उन्होंने अपने ठीक होने की प्राथना की और पेशकश राखी की ठीक होते वे यहाँ मंदिर का निर्माण करवाएंगे| इसके बाद सैनिक सभी चोट से उभर गया और इस तरह से यहां चमत्कारी रूप से गोरी शंकर के इस अद्भुत मंदिर का निर्माण हुआ|