आज जानिए..!! क्यो नहीं करने चाहिए भगवान गणेश की पीठ के दर्शन..!!

आज जानिए..!!नहीं करने चाहिए भगवान गणेश की पीठ के दर्शन..!!होता है अशुभ..!!!!

नहीं करने चाहिए भगवान गणेश की पीठ के दर्शन
नहीं करने चाहिए भगवान गणेश की पीठ के दर्शन

भगवान गणेश सभी सुखों को देने वाले माने गए हैं। अपने भक्तों के दुखों को दूर करते हैं और शत्रुओं से रक्षा करते हैं।श्री गणेश जिसे प्रथम देवता माना जाता है। हमारे घर में कोई भी मांगलिक काम या फिर कोई काम ही क्यों न हो। सबले पहले इन्हे ही पूजा जाता है। गणेश जी सभी की मनोकामनाएं पूर्ण कर देते है। अपने भक्तों को वो कभी भी दुखी नहीं रखते हैं। उनके ऊपर अपनी कृपा हमेशा बनाए रखते है। जिससे कि उनके भक्तों को हमेशा सुख मिले। कभी भी कोई भी समस्या उनको छू भी न पाएं।

लेकिन क्या आप यह बात जानते है कि श्री गणेश की मूर्ति के दर्शन करना कितना शुभ होता है उतना ही श्रीगणेश की पीठ पर दरिद्रता का निवास होता है। गणेशजी की पीठ के दर्शन करने वाला व्यक्ति यदि बहुत धनवान भी हो तो उसके घर पर दरिद्रता का प्रभाव बढ़ जाता है। इसी वजह से इनकी पीठ नहीं देखना चाहिए। जाने-अनजाने पीठ देख ले तो श्री गणेश से क्षमा याचना कर उनका पूजन करें। तब बुरा प्रभाव नष्ट होगा।

गणेशजी को रिद्धि-सिद्धि का दाता माना गया है। इनकी पीठ के दर्शन करना वर्जित किया गया है। गणेशजी के शरीर पर जीवन और ब्रह्मांड से जुड़े अंग निवास करते हैं। गणेशजी की सूंड पर धर्म विद्यमान है तो कानों पर ऋचाएं, दाएं हाथ में वर, बाएं हाथ में अन्न, पेट में समृद्धि, नाभी में ब्रह्मांड, आंखों में लक्ष्य, पैरों में सातों लोक और मस्तक में ब्रह्मलोक विद्यमान है। गणेशजी के सामने से दर्शन करने पर उपरोक्त सभी सुख-शांति और समृद्धि प्राप्त हो जाती है।

हिन्दू शास्त्रों में कई शुभ-अशुभ संकेतों का वर्णन किया गया है। इन्हें मनुष्य को प्रतिदिन के निर्देशों के रूप में लेना चाहिए, क्योंकि यदि इनका पालन किया जाए तो वाकई जिंदगी आसान हो जाएगी। इसी वजह से इनकी पीठ नहीं देखनी चाहिए।

॥ जय गणेश ॥