पढ़िए गणेश के जन्म से जुड़ी रोचक कथा…!!!!

पढ़िए गणेश के जन्म से जुड़ी रोचक कथा…!!!!

गणेश माँ पार्वती और पिता शिव शंकर के साथ

भगवान गणेश के जन्म की कथा तो आप सभी को ज्ञात ही होगी, जानिए उनके जन्म से जुडी एक रोचक कथा ।  सर्व प्रथम पूज्य भगवान गणेश का जन्म माउंटआबू में हुआ था और माता पार्वती ने अर्बुद पर्वत के इशान शिखर पर बैठकर पुत्र की कामना के लिए पुन्यंक नामक व्रत किया था । एक पौराणिक मान्यता के मुताबिक स्कन्द पुराण के अर्बुद खंड के मुताबिक गौरी शिखर पर्वत पर भगवान गणेश का जन्म हुआ था। गौरी शिखर यानि अर्बुद पर्वत और भगवान गणेश के जन्म स्थान पर बना मंदिर और उनकी निशानियां आज भी मौजूद हैं ।

माउंटआबू के अर्बुद पर्वत सहित अरावली पर्वत के सभी धर्म ग्रंथों में देवी देवताओं के निवास स्थान होने का उल्लेख है। स्कंद पुराण के अर्बुद खंड में गणेश के प्रादुर्भाव की कथा इस प्रकार है । मां पार्वती ने भगवान शंकर से पुत्र प्राप्ति का वर मांगा । भगवान शंकर ने पार्वती को पुण्यंक नाम का व्रत करने को कहा । जिसके बाद उन्हें पुत्र प्राप्ति का वरदान भगवान शंकर से मिला।इसके बाद भगवान गणेश का जन्म गोबर से हुआ।

गणेश माँ पार्वती और पिता शिव शंकर के साथ

स्कन्द पुराण के तीसरे अध्याय में अर्बुद खंड के अनुसार माउंटआबू के गौरी शिखर जिसे अब गुरु शिखर कहते हैं भगवान गणेश के जन्म होने के प्रमाण मिलते हैं।यहां पर माता पार्वती ने अर्बुद पर्वत के इशान शिखर पर बैठकर पुत्र की कामना से पुन्यंक नामक व्रत किया था, जिसके सफल होने पर गौरी शिखर पर गणेश का जन्म हुआ था, करीब २०० साल पहले जाने माने संत रामदास ने भी आबू कल्प में लिखा है कि महाविनायक का जन्म गौरी शिखर पर पश्चिम दिशा में हुआ था ।

बाबा गणेश आप सभी पर अपनी कृपा बनाये रखे ।

।।जय गणेश।।

100 Comments

Add a Comment

Your email address will not be published.