अगर आपने किया एकादशी के दिन इन 6 चीजों का सेवन तो सौभाग्य बदल जाएगा दुर्भाग्य मे!!

अगर आपने किया एकादशी के दिन इन 6 चीजों का सेवन तो सौभाग्य बदल जाएगा दुर्भाग्य मे!!

भगवान विष्णु के व्रत में सबस महत्वपूर्ण व्रत एकादशी माना जाता है। एकादशी साल में 14 बार पडती हैं। शास्त्रों के अनुसार माना जाता है कि इस दिन व्रत रखने से दूसरे एकादशी की पूर्ति हो जाती है। और इसी के अनुसार फल की प्राप्ति होती है।

एकादशी व्रत बहुत ही विधि-विधान के साथ किया जाता है। इसमें आपकी एक भूल आपको फल से वंचित कर सकती है। इसलिए इस दिन बहुत ही ध्यानपूर्वक पूजा करनी चाहिए। जिससे भगवान विष्णु की कृपा आप पर बनी रहें और आपको हर काम में सफलता प्राप्त हो। इसी तरह इस दिन भोजन का भी अधक महत्व है। इस दिन आपके द्वारा खाए गए भोजन से भी फर्क पडता है।

शास्त्रों में य़ह बात बताए गई है। कि इस दिन कौन सी चीज खाना हमारे लिए नुकसानदेय साबित हो सकती है। जानिए एकादशी के दिन भूलकर भी किन चीजों का सेवन नहीं करना चाहिए।

  • इस दिन चावल का सेवन नहीं करना चाहिए, क्योंकि शास्त्रों में चावल का संबंध जल से किया गया हैं और जल का संबंध चंद्रमा से है। पांचों ज्ञान इन्द्रियां और पांचों कर्म इन्द्रियों पर मन का ही अधिकार है। मन और श्वेत रंग के स्वामी भी चंद्रमा ही हैं, जो स्वयं जल, रस और भावना के कारक हैं, इसीलिए जलतत्त्व राशि के जातक भावना प्रधान होते हैं, जो अक्सर धोखा खाते हैं।
  • चावल की तरह ही जौ का सेवन भी नहीं करना चाहिए, क्योंकि जौ महर्ष‌ि मेधा के शरीर से उत्पन्न हुआ माना जाता है। इसलिए इसका सेवन करना इस दिन वर्जित है।
  • एकादशी के दिन लहसुन, प्याज का सेवन नहीं करना चाहिए, क्योंकि इसके इस्तेमाल से गंध युक्त और मन में काम भाव बढ़ाने की क्षमता के कारण इसे अशुद्ध माना गया है।
  • एकादशी और द्वादशी त‌िथ‌ि के द‌िन बैंगन खाना अशुभ फलदायी माना गया है।
  • मांस और मद‌‌िरा का सेवन भी एकादशी के द‌िन  नहीं करना चाहिए, क्योंकि शास्त्रों में माना गया है कि इस दिन सेवन करने से आपको नरक में जाना पडता है।
  • ब्रह्मवैवर्त पुराण के ब्रह्मखंड में में कहा गया है कि एकादशी के दिन सेम नहीं नहीं खाना चाह‌िए, क्योंकि इस दिन इसका सेवन करना आपकी संतान के लिए हानिकारक हो सकता है।

83 Comments

Add a Comment

Your email address will not be published.