Category: बाबा महाकाल

एक ऐसा अनोखा मन्दिर जहां देवी माँ कि पूजा शिवलिंग के रूप मे होती है !!!

एक ऐसा अनोखा मन्दिर जहां देवी माँ कि पूजा शिवलिंग के रूप मे होती है हमारे देश में मंदिरों और तीर्थों की संख्या अनगिनत हैं ऐसे में बहुत
Read More

बोधेश्वर महादेव मंदिर में आते हैं हजारों सांप और दूर होते हैं ‘असाध्य रोग’ :

बोधेश्वर महादेव मंदिर की बनावट बेहद खूबसूरत है एवं इसे 15वीं शताब्दी की कलाकृति कही जाती है। मंदिर में स्थापित पंचमुखी शिवलिंग के पत्थर के विषय में ऐसा
Read More

जानिये कैसे महाकाल थे लंकादहन के असली कारण

हनुमान अवतार और लंकादहन सामान्यत: लंकादहन के संबंध में यही माना जाता है कि सीता की खोज करते हुए लंका पहुंचे और रावण के पुत्र सहित अनेक राक्षसों
Read More

देश का इकलौता शिव मंदिर! जहां बिना गणराज के विराजित हैं भोलेनाथ :

भगवान शिवजी ने किया था यहां पर निवास… मंदिरों से जुड़ी कई कथाओं और चमत्कारों के बारे में देखा व सुना ही होगा। वहीं आपने जो भी शिवमंदिर
Read More

जानिए भगवान शिव के हर मंदिर में क्यो विराजमान है नंदी महाराज :

जहां भी भगवान शिव की पूजा होती है या जहां भी शिव भगवान की महिमा की बात होती है वहां नंदी का ज़िक्र भी आता ही है। अकसर
Read More

यहां स्थापित है ‘कामनालिंग’, जानिए मंदिर के शीर्ष पर लगे ‘पंचशूल’ का रहस्य :

यहां स्थापित शिवलिंग को ‘कामनालिंग’ भी कहा जाता है। यह 12 ज्योतिर्लिंगों में से एक है। जहां पर यह मंदिर स्थित है उसे देवघर कहा जाता है ।
Read More

नहीं हो रही है शादी तो इस मंदिर में करें भगवान भोलेनाथ का दर्शन, हर मुराद पूरी करेंगे भोलेनाथ :

भोलेनाथ को जल चढ़ाने से कुंवारों के भाग्य खुल जाते हैं तथा उन्हे मनपसंद दुल्हन मिल जाती है । शिवभक्त हर दिन भगवान शंकर की अपने-अपने ढंग से
Read More

भोलेनाथ की ‘अर्धकाशी’, यहां शिव के अंगूठे की होती है पूजा :

यहां पर शिव भगवान के अंगूठे की पूजा होती है। भगवान शिव के सभी मंदिरों में उनके शिवलिंग की पूजा होती है लेकिन माउंट आबू में अचलगढ़ दुनिया
Read More

रहस्यमयी शिवलिंग : जिसकी स्थापना द्वापर युग में स्वयं युधिष्ठिर ने की थी!!

यूं तो देश एवं दुनिया में हजारों लाखों की तादाद में शिवलिंग मौजूद हैं। जिनमें से 12 शिवलिंग को ज्योतिर्लिंग का दर्जा प्राप्त है। सनातन संस्कृती में शिव
Read More

चौथे प्रमुख ज्योतिर्लिंग भगवान ओम्कारेश्वर की दो रुपों में होती है पूजा :

नर्मदा नदी के किनारे चारों ओर से पहाड़ी से घिरा मंदिर का दृश्य मनमोहक है। यह पहाड़ी के चारों ओर नदी के बहने से ओम का आकार बनता
Read More