Category: अविश्वसनीय रहस्य

आश्चर्यचकित कर देगा कौवे से जुड़ा यह प्राचीन एवम् पौराणिक रहस्य, क्या है इसका रिश्ता यमराज के साथ !!!

हम अपने पितरो का श्राद इत्यादि करते है तब हम इस पक्षी को अहमियत देते है तथा पितरो के भोजन के साथ कौए के भोजन के लिए भी
Read More

यहाँ पर भोलेनाथ अपने भक्तो को बचाने के लिए झेल लेते है बिजली को अपने ऊपर …

हिमाचल प्रदेश के कुल्लू जिले में कुल्लू से लगभग २९ की मी दूर चंसारी  गाँव के पास बिजली  स्थित है यहाँ पहुँचने के लिए आपको लगभग चार से
Read More

साक्षात चमत्कार तीन बार रंग बदलते है महादेव यहाँ………..

राजस्थान और मध्य प्रदेश की सीमा से लगे अचलेश्वर महादेव का मंदिर पुरे विश्व का एकमात्र ऐसा मंदिर है जहाँ पर महादेव के लिंग की नहीं अपितु उनके अंगूठे
Read More

एक दिन में दो बार गायब हो जाता है यह मंदिर ……

गुजरात में वडोदरा से 85 km दूर जंबूसर तहसील के कावी-कंबोई गांव का यह मंदिर स्तंभेश्वर नाम से प्रसिद्द है यह मंदिर दिन में दो बार सुबह और
Read More

आधा शिव और आधा पार्वती रूप शिवलिंग जिनका मिलन होता है शिवरात्रि पर…..

देवभूमि हिमाचल प्रदेश  के कांगड़ा जिले के इंदौरा उपमंडल में काठगढ़ महादेव का मंदिर स्थित है।  यह विश्व का एकमात्र मंदिर है जहां शिवलिंग एक अनोखे रूप में
Read More

भोले नाथ का एक मंदिर जहाँ पूजा करना मना है ….

उत्तराखंड राज्य के जनपद सीमान्त जनपद पिथौरागढ़ से धारचूला जाने वाले मार्ग पर लगभग सत्तर किलोमीटर दूर स्थित है कस्बा थल जिससे लगभग छः किलोमीटर दूर स्थित है
Read More

जानिये ऐसे महादेव के बारे में जिनमे है लाखो छिद्र …..

आइये जानते है लक्ष्मणेश्वर महादेव मंदिर के बारे में जो की छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर से १२० कम और शिवनारायण गाँव  से 3 किलोमीटर दूर खरौद नगर में
Read More

जाने अर्धनारीश्वर महाकाल का रहस्य….!!!

अर्द्धनारीश्वर शिव   सृष्टि के प्रारंभ में जब ब्रह्माजी द्वारा रची गई मानसिक सृष्टि विस्तार न पा सकी, तब ब्रह्माजी को बहुत दुःख हुआ। उसी समय आकाशवाणी हुई ब्रह्मन्!
Read More

कैसे आयी महाकाल की जटाओ में गंगा …..

जब गंगा को जटाओं में बांध लिया शिव ने रघुवंश में भगवान राम के पूर्वज भागीरथ एक प्रतापी राजा थे। उन्होंने अपने पूर्वजों को जीवन-मरण के दोष से
Read More

जानिये कहाँ पर भैरव साक्षात् पीते है मदिरा और कर देते है बोतले खाली…

मध्य प्रदेश के उज्जैन के कालभैरव का यह मंदिर लगभग छह हजार साल पुराना माना जाता है। यह एक वाम मार्गी तांत्रिक मंदिर है। वाम मार्ग के मंदिरों में
Read More