जानिए क्यों भगवान् शिव को चढ़ती हैं भांग….!!!!

जानिए क्यों भगवान् शिव को चढ़ती हैं भांग….!!!!

शिव शंकर भोलेनाथ

भगवान महादेव को देवो के देव कहा जाता है। जितने भगवान दयालु हैं उतना ही उनके गुस्से को सभी लोग अच्छे से जानते हैं।कहा जाता है एक बार अगर भगवान शिव नाराज़ हो जाये तो उनको मनाना बहुत ही मुश्किल हो जाता है धरती पर भूचाल आ जाता  है ,पर भगवान इतने कृपालु है की कोई भक्त उन्हें सच्चे मन से पूजा करता है उन्हें मनाने के लिए खुश करने के लिए तो वो आसानी से मान जाते है ।भगवान भोलेनाथ को नशे के प्रदार्थ चढ़ाये जाते है जैसे धतूरा, भांग इत्यादि  । इसके पीछे पुराण में एक कथा का वर्णन किया गया है । आइये जानते है उस कथा के बारे मे।

देवता और असुरों के बीच समुद्रमंथन के लिए हुए युद्ध की कहानी प्रसिद्ध है ,लेकिन उस मंथन से निकले अमृत और विषपान की जब बात आई तो कोई भी विषपान करने के लिए सहमत नहीं हो रहा था. देवता और असुरों के बीच हुए इस मतभेद के बाद देवता और दैत्य दोनों गण भगवान् विष्णु के पास इस समस्या के  समाधान के लिए पहुचे.,भगवान नारायण ने तब भोलेनाथ शंकर का आह्वाहन किया ।

भगवान् शिव के वहां पहुचते ही मंथन के बाद निकले अमृत और विष में से बचे हुए विष का सेवन संसार की सुरक्षा के लिए महादेव ने अपने गले में उतर लिया. मंथन के बाद निकले विष में सबसे अधिक में मात्रा में धतूरे और भांग थी।भगवान को भांग इसलिए भी चढ़ाई जाती है क्योंकि भांग नशे का एक रूप है एवं बुराई का भी,भगवान् शिव को इस बात के लिए भी जाना जाता हैं कि इस संसार में व्याप्त हर बुराई और हर नकारात्मक चीज़ को अपने भीतर ग्रहण कर लेते हैं और अपने भक्तो की विष से रक्षा करते हैं  । इसलिए भगवान् भांग पसंद करते है।कुछ मान्यताओ के अनुसार कहा जाता है , भगवान को भांग इसलिए भी चढती है क्योंकि भांग ठंडी होती है और शिवजी का गुस्सा बहुत तेज़ होता है इसलिए उनके गुस्से को ठंडा करने के लिए भांग का प्रयोग करते है । भगवान शंकर हम सभी के जीवन की सभी बुराइयो और नकारात्मक उर्जाओ को दूर करे ।

॥ जय भोलेनाथ ॥