आज जानिए..!!किन गलतियों की वजह से आप बन सकते है पापी और आपको झेलना पड़ सकता है नर्क..!!!!

आज आज जानिए..!!किन गलतियों की वजह से आप बन सकते है पापी और आपको झेलना पड़ सकता है नर्क..!!!!

पाप और पुण्य का संबंध मनुष्य के कर्मो से होता है।ऐसा माना गया है अगर मनुष्य ने किसी का अहित किया हो या कोई बुरा कार्य किया हो तो वह पाप का भागीदार बन जाता है। ऐसे लोग न तो जीवनभर प्रसन्न रह पाते हैं और न ही धार्मिक कार्यों में भाग ले पाते हैं।जिन मनुष्यों के हिस्से में पाप आता है वह जीवनभर ईर्ष्या और द्वेष में ही अपना जीवन गुजार देते हैं। लेकिन इन सब कार्यों के अलावा कुछ बातें भी ऐसी हैं जिन्हें यदि आप किसी को कह दें तो आप तुरंत पाप के भागी बन जाते हैं और आपको पता भी नहीं चल पाता।इन बातों का जिक्र शास्त्रों में किया गया है। इनमे ये बताया गया है कि अनैतिक कार्यों के अलावा हमारी वाणी, बोली भाषा से भी हमारे जीवन के साथ पाप जुड़ता रहता है।
इसलिए यदि आप इस पाप के घेरे से बचना चाहते हैं तो जान लीजिए उन बातों को जो अनजाने में आपको पाप का भागीदार बना देती हैं, और व्यक्ति को इसी जीवन में या मरने के बाद भी उन चीजों का दंड भोगना पड़ता है।

आइए जानते हैं ऐसे ही कामो से बारे में जिसको करने से और बुरा बोलने से व्यक्ति पापी बन जाता है और उसे नर्क में सबसे ज्यादा यातनाएं झेलनी पड़ती है।
• धर्म, देवता और पितरों का अपमान करने वाला ,उनको गलत शब्द बोलने वाला व्यक्ति नरक में जाता हैं।
• निरंतर क्रोध में रह कर सब लोगो को गन्दा बोलने वाला , कलह करने वाला,सदा दूसरों को धोखा देने का सोचने वाला नरक में गिर जाता है। वहां उसका सामना यम से होता है।
• किसी पराई स्त्री पर बुरी नजर रखना या उसके साथ संभोग करना सबसे बड़ा पाप माना गया है। इसके साथ ही गुरुशैय्या पर दुष्कर्म करना बहुत बड़ा पाप होता है। गुरु मनुष्य को अच्छे-बुरे का ज्ञान देता है। गुरु को पिता के समान और गुरुपत्नी को माता के समान मानना चाहिए। गुरुपत्नी के साथ संबंध रखने वाले या गुरुपत्नी को बुरी नजर से देखने वाले ऐसे इंसान को नर्क में उसके बुरे कर्मों की भयंकर सजा मिलती है।मनुष्य को ब्रह्म हत्या से भी बड़ा पाप लगता है।
• किसी को ठग कर, गलत काम कर या किसी के हिस्से की चीज चुराकर पैसे इकट्ठे करने वाले को नर्क में सजा मिलती है और पैसे को दान ना करने वाले भी उतने की पापी माने जाते हैं।
• जानवरों पर अत्याचार करने वाले, उनकी हत्या करने वाले और नौकरों से बुरा व्यवहार करने वालों को नर्क में सजा भोगनी पड़ती है।


• अगर कोई मनुष्य जान कर या भूल से किसी की हत्या कर देता है, तो यह कर्म महापाप माना जाता है। ऐसा कर्म करने वाले मनुष्य को जीवन भर दुखों का सामना करना पड़ता है। सिर्फ हत्या करने वाला ही नहीं बल्कि ऐसे काम में साथ देने वाले मनुष्य को भी कुंभीपाक नाम के नरक की यातना सहनी पड़ती है। इसलिए मनुष्य को भूलकर भी हत्या जैसे बुरे कर्म में भाग नहीं लेना चाहिए।
तो भूलकर भी ऐसे काम नहीं करना चाहिए।